HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

दिल गाए [गज़ल]- गुलाब जैन

रचनाकार परिचय:-

नाम : गुलाब जैन
जन्म : २८-०२-१९५३ (हिसार) हरियाणा
गतिविधियाँ: * आल इंडिया रेडियो द्वारा मान्य लोक-गायक (हरियाणवी और राजस्थानी भाषाएं) और
सूफी गायन के अनेकों कार्यक्रम |
* हरियाणवी भाषा के स्व-रचित लोक गीतों की मेरी दो कैसेटस |
* क़रीब १० साल तक हिंदी पत्रिका 'वनिता' के लिए 'ज्योतिष-स्तम्भ' लिखना |
* सन् २०१० से ज्योतिष और वास्तु विज्ञान पर ब्लॉगिंग |
* 'साहित्य कुञ्ज', 'साहित्य सुधा' एवं 'अनुभूति -हिंदी' नामक वेब -पत्रिकाओं में मेरी चंद ग़ज़लें
प्रकाशित |
ब्लॉग : https://www.stargurugulab.blogspot.in

संपर्क : jain.gulab@gmail.com

मोबाइल : 09886800691
 सपने

मेरी आँखों में हुए दफ़्न कितने सपने |
जब हुए दूर मुझसे सब मेरे अपने |
मैंने तो चाहा फ़क़त तसव्वुर में उन्हें,
न जाने कैसे ये अफ़साने लगे छपने |
जो भी सच्चा है बशर इस भरी दुनिया में,
उसको हमेशा फटे-हाल में देखा सबने |
वादा करते थे जो हर दम साथ देने का,
आया तूफां तो सब चल दिए घर अपने |
सांस का क्या है, आज है, कल नहीं,
क्यूँ सजा रखे हैं फिर इतने सपने |


ज़िन्दगी

भागती और दौड़ती ये ज़िन्दगी
सब को पीछे छोड़ती ये ज़िन्दगी |
ख्वाब थोड़े पूरा करती ये ज़िन्दगी
और थोड़े तोड़ती ये ज़िन्दगी |
हर कदम पे है नया इक इम्तहाँ
कोई भी समझा न इसकी दास्ताँ
कर के हैरां छोड़ती ये ज़िन्दगी |
मासूमियत के पहन मुखौटे यहाँ
कैसी -कैसी चाल ये चलता जहाँ
कर के परीशां छोड़ती ये ज़िन्दगी |


'दिल गाए '

तेरी एक झलक जो मिल जाए |

जीवन की बगिया खिल जाए |

तेरी चंचल आँखों में देखा

इक ज्वार प्यार का चढ़ता-सा,

जग की ख़ुशियाँ मिल जाए मुझे

जो तीर नज़र का चल जाए |

तेरे लब हैं या कि पैमाने

देखें जो, हों वो दीवाने,

जो अपना लो तुम मुझे प्रिये

जीवन- कश्ती साहिल पाए |

शामें मेरी वीरान हुईं

नींदें तुझ पे क़ुर्बान हुईं,

गर जीवन में तुम आ जाओ

आंसू थम जाएं, दिल गाए |




टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...