HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

गर्मी में ठंडक का अहसास [व्यंग्य]- विवेक रंजन श्रीवास्तव



विवेक रंजन श्रीवास्तवरचनाकार परिचय:-



विवेक रंजन श्रीवास्तव
अधीक्षण अभियंता
औ बी ११ विद्युत मण्डल कालोनी रामपुर जबलपुर


गर्मी में ठंडक का अहसास
पुराने समय की बात है नव रत्न राज दरबार की शोभा थे . राजा उनसे परामर्श लेकर फैसले किया करते थे . अब नोतपा चल रहा है और नव रत्न जड़ी बूटियो में समाहित होकर तेल की धारा में शामिल हैं .तेल शिरोधार्य करकर लोग ठंडक का अहसास कर रहे हैं . तेल देखो तेल की धारा देख लो . विचारधारा है तो मोदी हैं. मोदी हैं तो विरोधी हैं . विरोधी हैं तो एकता है . एकता है तो सीरियल हैं . सीरियल हैं तो मनोरंजन है . मनोरंजन चुनाव से भी कम नही होता , जीतता कोई है कुर्सी पर कोई दूसरा भी नही तीसरा ही बैठ जाता है . कुर्सी है लकड़ी की . लकड़ी आती है जंगल से . कुर्सी बननी है तो जंगल कटेंगे . जंगल कटेंगे तो गर्मी बढ़ेगी . गर्मी बढ़ेगी तो ठंडक के अहसास की जरूरत होगी . ठंडक का अहसास होता है नवरत्न तेल से .

ठंडक का अहसास नवरत्न तेल से भर नहीं होता . ए सी से भी होता है . ए सी है तो बिजली चाहिये . बिजली है तो बिल है . बिल है तो राजनीति है . राजनीति है तो फिर मोदी है , केजरीवाल है , राहुल है , माया है , अखिलेश का साया है . उत्तर है दक्षिण है , पूर्वांचल है . पंचायत के ,जनपद के, प्रदेश के, देश के जगह जगह चुनाव है, उपचुनाव है . जोड़ तोड़ से वोट बैंक है . वोट बैंक है तो सरगर्मी है . सरगर्मी है , तो ठंडक के अहसास की जरूरत है . ठंडक का अहसास होता है नवरत्न तेल से .

ठंडक का अहसास नवरत्न तेल से भर नहीं होता . पसीने पर हवा लगने से भी होता है . पसीने के लिये मेहनत जरूरी है . मेहनत गरीब करता है , अमीर पुश अप करते हैं . पुश अप करते हैं तो हम फिट रहते हैं , हम फिट तो देश फिट . देश की फिटनेस का बयान करने के लिये नेता चाहिये . नेता है तो मोदी है , मोदी है तो विरोधी हैं . विरोधी हैं तो सरगर्मी है . सरगर्मी है , तो ठंडक के अहसास की जरूरत है . ठंडक का अहसास होता है नवरत्न तेल से .

कथा सार यह है कि गर्मी बहुत ज्यादा है , बिजली गोल है , इसलिये ठंडक का अहसास हो सकता है केवल नवरत्न तेल से , वही ढ़ूंढ़ रहा हूं , पर उसे ढ़ूढ़ने के लिये भी बिजली चाहिये . बिजली नही है . बिजली नही है तो फिर राजनीति है , बिजली है तो बिल की राजनीति है . राजनीति है तो नेता है . नेता है तो सरगर्मी है .

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...