कवि दीपक शर्मा रचनाकार परिचय:-



कवि दीपक शर्मा
चंदौसी, मुरादाबाद, उत्तर प्रदेश
मोबाईल: ९९७१६९३१३१ ई मेल- deepakshandiliya@gmail.com,kavyadharateam@gmail.com

15 अगस्त ज़िंदाबाद
----------------------------

इस देश मे जन्मा, पला बड़ा
इस देश मे पोसा किया खड़ा
मेरी माँ से पहले है भारत माँ
मेरे वतन न्यौछावर तुझपे जाँ।।

तेरी धरा से उपजा खाते हैं हम
तेरा पानी पीकर ज़िन्दा हैं हम
तेरे दम से ही जग में है मेरा दम
वर्ना किसी का नही वज़ूद यहाँ।।

है गर्व कि आज ये दुनिया सारी
गीता वेद पुराणों पर बलिहारी
पर देखो तो ज़रा षड्यंत्र गद्दारी
हम कहते इनका अस्तित्व कहाँ।।

हे! भारत माँ तनिक शोक न कर
जब तक हैं लाल तेरे धरती पर
तेरी आन पे क़ुर्बान कर देंगे सिर
बाक़ी न रहेगा दुश्मन का निशाँ।।

"दीपक" ज्योति सी तेरी ज्वाला
पहने सदा भगवा अमर दुशाला
मेरा राष्ट्रगीत राष्ट्रगान निराला
चिरस्वतंत्र मेरा भारत हिन्दुस्तां।।

सर्वाधिकार @ दीपक शर्मा

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Get widget