WRITER NAMEरचनाकार परिचय:-


सुशील कुमार शर्मा व्यवहारिक भूगर्भ शास्त्र और अंग्रेजी साहित्य में परास्नातक हैं। इसके साथ ही आपने बी.एड. की उपाध‍ि भी प्राप्त की है। आप वर्तमान में शासकीय आदर्श उच्च माध्य विद्यालय, गाडरवारा, मध्य प्रदेश में वरिष्ठ अध्यापक (अंग्रेजी) के पद पर कार्यरत हैं। आप एक उत्कृष्ट शिक्षा शास्त्री के आलावा सामाजिक एवं वैज्ञानिक मुद्दों पर चिंतन करने वाले लेखक के रूप में जाने जाते हैं| अंतर्राष्ट्रीय जर्नल्स में शिक्षा से सम्बंधित आलेख प्रकाशित होते रहे हैं |

आपकी रचनाएं समय-समय पर देशबंधु पत्र ,साईंटिफिक वर्ल्ड ,हिंदी वर्ल्ड, साहित्य शिल्पी ,रचना कार ,काव्यसागर, स्वर्गविभा एवं अन्य वेबसाइटो पर एवं विभ‍िन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाश‍ित हो चुकी हैं।

आपको विभिन्न सम्मानों से पुरुष्कृत किया जा चुका है जिनमे प्रमुख हैं

1.विपिन जोशी रास्ट्रीय शिक्षक सम्मान "द्रोणाचार्य "सम्मान 2012
2.उर्स कमेटी गाडरवारा द्वारा सद्भावना सम्मान 2007
3.कुष्ट रोग उन्मूलन के लिए नरसिंहपुर जिला द्वारा सम्मान 2002
4.नशामुक्ति अभियान के लिए सम्मानित 2009

इसके आलावा आप पर्यावरण ,विज्ञान, शिक्षा एवं समाज के सरोकारों पर नियमित लेखन कर रहे हैं |



राधा कृष्ण की प्रीत
काव्य नाटिका
छंद -दोहा
( राधा और कृष्ण के अमर प्रेम का वार्तालाप दोहा छंद के माध्यम से प्रेषित है। )
सुशील शर्मा



राधा-
पल पल राह निहारती ,आँखे तेरी ओर।
जब से बिछुड़े सांवरे ,दुख का ओर न छोर।

कृष्ण -
पर्वत जैसी पीर है ,ह्रदय बहुत अकुलाय।
राधा राधा जपत है ,विरही मन मुरझाय।
राधा -
कान्हा तेरी याद में ,नैनन नींद न आय।
काजल अँसुवन बहत है ,हिया हिलोरें खाय।
कृष्ण -
मुकुट मिला वैभव मिला ,और मिला सम्मान।
लेकिन तुम बिन व्यर्थ सब ,स्वर्णकोटि का मान।
राधा -
कृष्ण कृष्ण को देखने ,आँखें थीं बेचैन।
वाणी तेरा नाम ले ,थके नहीं दिन रैन।
कृष्ण -
जबसे बिछुड़ा राधिके ,नहीं मुझे विश्राम।
हर पल तेरी याद है ,हर पल तेरा नाम।
राधा (व्यंग से )-
स्वर्ण महल की वाटिका ,और साथ सतभाम।
फिर भी राधा याद है ,अहोभाग्य मम नाम।
कृष्ण -
स्वर्ग अगर मुझको मिले, नहीं राधिका साथ।
त्यागूँ सब उसके लिए ,उसके दर पर माथ।
राधा -
सुनो द्वारिकाधीश तुम ,क्यों करते हो व्यंग।
हम सब को छोड़ा अधर ,जैसे कटी पतंग।

बने द्वारिकाधीश तुम ,हम ब्रजमंडल ग्वाल।
हम सबको बिसरा दिया ,हो गए कितने साल।

कृष्ण -
सत्य कहा प्रिय राधिके ,मैं अपराधी आज।
किन्तु तुम्हारे बिन सदा ,पंछी बिन परवाज।

राधा बिन नीरव सदा ,मोक्ष ,अर्थ अरु काम।
नहीं विसरता आज भी ,वो वृन्दावन धाम।

राधा -
बहुत दूर तुम आ गए ,कृष्ण कन्हैया आज।
तुमको अब भी टेरती ,गायों की आवाज़।

ब्रजमंडल सूना पड़ा ,जमुना हुई अधीर।
निधिवन मुझसे पूछता ,वनिताओं की पीर।

बहुत ज्ञान तुमने दिया ,गीता का हो सार।
क्यों छोड़ा हमको अधर ,तुम तो थे आधार।
कृष्ण -
कर्तव्यों की राह पर ,कृष्ण हुआ मजबूर।
वरना कृष्ण हुआ कभी ,इस राधा से दूर।

जनम देवकी से हुआ ,जसुमति गोद सुलाय।
ग्वाल बाल के नेह की ,कीमत कौन चुकाय।

कृष्ण भटकता आज भी ,पाया कभी न चैन।
कर्तव्यों की राह में ,सतत कर्म दिन रैन।

युद्ध विवशता थी मेरी ,नहीं राज की आस।
सत्य धर्म के मार्ग पर ,चलते शांति प्रयास।

राधा (मुस्कुराते हुए )-
भक्तों के तुम भागवन ,मेरे हो आधीश।
अब तो आँखों में बसो ,आओ मेरे ईश।

सौतन बंशी आज भी ,अधरों पर इतराय।
राधा जोगन सी बनी ,निधिवन ढूढंन जाय।

कृष्ण -
नहीं बिसरत है आज भी ,निधिवन की वो रास।
राधे तुम को त्याग कर खुद भोगा वनबास।

बिन राधे कान्हा नहीं ,बिन राधे सब सून।
बिन राधे क्षण क्षण लगे ,सूखे हुए प्रसून।

बनवारी सबके हुए ,राधा ,कृष्ण के नाम।
बिन राधा के आज भी ,कृष्ण रहें बेनाम।

भक्त सुशील -

कृष्ण प्रेम निर्भय सदा,राधा का आधार।
राधा,कृष्ण संग सदा ,कृष्ण रूप साकार।

परछांई बन कर रही,राधा,कृष्ण सरूप।
दोनों अमित अटूट हैं ,एक छाया एक धूप।

राधा वनवारी बनी, कृष्ण किशोरी रूप।
कृष्ण सदा मन में रहें,राधा ध्यान सरूप।

परिभाषित करना कठिन,राधा जुगल किशोर।
किया समर्पित कृष्ण को,राधा ने हर छोर।

तन मन से ऊपर सदा,प्रिया, कृष्ण की प्रीत।
जोगन सा जीवन बिता,मीरा ,कृष्ण विनीत।

कृष्ण सिखाते हैं हमें, मानवता संदेश।
जीवन में निर्झर बहो, हरो विकार क्लेश।

कर्म सदा करते रहो,फल की करो न आस।
सुरभित जीवन हो सदा ,गर मन में विश्वास।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget