रचनाकार परिचय:-


राजेश भंडारी “बाबु”
१०४ महावीर नगर इंदौर
९००९५०२७३४


हर रोज दीवाली हे



हर दन खुशी की बरसात हे हर बात निराली हे ,
मा बाप का प्यार मिले तो हर रात दिवाली हे |

उनकी आखो में झाकता संतुस्टी का भाव ,
लगता हे सारे गुलशन में फैली हरयाली हे ,

नहीं चाहिते हमसे वो कुछ भी लेकिन ,
परिवार के गुलशन के तो वे ही माली हे

उम्र के इस मोड़ पर उनका प्यार असली हे ,
हमें लगता हे बाकी सारी दुनिया जाली हे

वो खपा हो या खुश कोई नहीं जानता क्योकि
अब तो आशीर्वाद सी लगती उनकी हर गाली हे

ता उम्र रहे हाथ सर पर उनका हमारे
अब भी लगता हे जैसे अभी तो उम्र बाली हे

हे प्यार भी अपनी जगह और परिवार भी ,
पर उनके लिए एक कोना हमेशा खाली हे

राजेश भंडारी "बाबु"
९००९५०२७३४

Rajesh Bhandari "babu"
104 Mahavir Nagar Indore
9009502734




0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget