आज अपने स्तर से सतर्कता लाएंगे

 तो कल समृद्ध भारत बना पाएंगे


अब तक  हम हर  वर्ष सतर्कता 

 पर चर्चा करते आए हैं

अपनी आकांक्षाओं के अधीन हो 

एक दूसरे पर उंगलियां उठाते आए हैं

 अपनी गलती को छोटा बताने को

 दूसरों की गलतियां  गिनाते आए हैं


  आज अपने स्तर से सतर्कता लाएंगे

 तो कल समृद्ध भारत बना पाएंगे



 जब जान लिया है विष कहां है?

फिर दौड़ भाग क्यों यहां वहां है

 यह बीमारी है शुगर बीपी जैसी

 जीवन भर साथ चलेगी और पीढी दर पीढ़ी बटेगी 


आज अपने स्तर से सतर्कता लाएंगे

 तो कल समृद्ध भारत बना पाएंगे



लक्ष्मी, दुर्गा, काली, चंडी की पूजा करते है

फिर रिश्वत पर हम क्यों पलते है 

काला धन को प्रभु की कृपा समझते है 

हर बात पर राजनीति करते है

औरत की आबरू हरने हो तत्पर रहते है


आज अपने स्तर से सतर्कता लाएंगे

 तो कल समृद्ध भारत बना पाएंगे



दस दस रुपये में बिकते ईमान है 

फिर भी हर कोई परेशान है

रोटी, रोटी- दाल की कमी नहीं है

पर गरज किसी की पूरी नही है


आज अपने स्तर से सतर्कता लाएंगे

 तो कल समृद्ध भारत बना पाएंगे


करते है गलती जलती है चिताएँ 

उठती है टीसें बहती है आशाएं

उस पे हम मोमबत्तियां जलाएं 

ये कहाँ की अराजकता है, ये कैसी बलाए


आज अपने स्तर से सतर्कता लाएंगे

 तो कल समृद्ध भारत बना पाएंगे


भद्दे चुटकुले और परिहास कर अपनी परंपरा नष्ट करते आए है

फिर बची  है जो सभ्यता उसका भी मान ना कर पाए हैं

गांधी, भगत, लक्ष्मीबाई का उदाहरण देते आए हैं 

फिर क्या है- फिर क्या है जो हमें स्तंभित कर उनका मान क्षीण कर  आए हैं 


इतिहास गवाह है कि जब- जब इंसानों ने कुछ करने की ठानी  है 

तो एक उदाहरण पेश कर डाला है 

तो चलिए अपने भविष्य के लिए कुछ कर जाएं

छोटी छोटी गलती को हम ना छुपाए 

देखें जो गलत तो आवाज उठाएं 

सूझ- बूझ और सावधानी अपनाएं 

बड़े और छोटे का भेद मिटाएं 

प्यार से सबको गले लगाएं 

धर्म जाति का भेद दूर कर 

इस बार शिक्षा, बुद्धि, विवेक और शुद्ध आचरण का दीप जलाएं 

बेटों को ज्ञान दें ताकि हर स्त्री को सम्मान दें 

बेटियां हर मां बाप के  गुलशन का गुल है 

सुरभि बन संसार में छा जाने दें 

इतना सुंदर तो है भारत का पौराणिक ज्ञान 

फिर क्यों है इनमें  (youth) इतना आक्रोश, अज्ञान, 

इन्हें बताएं भारत का दंभ है ,

भारत का गर्व हैं 

भारत किसी से कम नहीं है 

हम भारत हैं भारत हैं हम 

तो चलिए मित्रों आज अपने स्तर पर सतर्कता लाएं 

ताकि कल फिर से भारत में सतर्कता सप्ताह ना मनाया जाए

सतर्कता सप्ताह ना मनाया जाए 


रचना सागर

29.10.2020




0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Get widget