HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

हालात बदल सकते हैं [सप्ताह का कार्टून] - अभिषेक तिवारी



रचनाकार परिचय:-

अभिषेक तिवारी "कार्टूनिष्ट" ने चम्बल के एक स्वाभिमानी इलाके भिंड (मध्य प्रदेश्) में जन्म पाया। पिछले २३ सालों से कार्टूनिंग कर रहे हैं। ग्वालियर, इंदौर, लखनऊ के बाद पिछले एक दशक से जयपुर में राजस्थान पत्रिका से जुड़ कर आम आदमी के दुःख-दर्द को समझने की और उस पीड़ा को कार्टूनों के माध्यम से साँझा करने की कोशिश जारी है.....

टिप्पणी पोस्ट करें

6 टिप्पणियां

  1. चुनाव का यक लाभ यह भी है। देश के गरीबों की तरक्की के लिये चुनाव हर साल होने ही चाहिये और उपचुनाव हर छ:ह महीने में।

    जवाब देंहटाएं
  2. बिलकुल हालात बदल सकते हैं। सही सुझाव है।

    जवाब देंहटाएं
  3. जी बहती गंगा में हाथ धोने को मिल जायें तो फ़िर कौन पीछे रहता है... सटीक व्यंग्य

    जवाब देंहटाएं
  4. फिलहाल तो हालात सुधरे हुए हैं। काली रात नजदीक है।

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...