भगत सिंह नें फाँसी के फंदे को चूमा और इस बूढे देश की नसें उबल पडीं। क्रांति दावानल हो गयी और अंग्रेज सूरज अस्त होने लगा।...। प्रस्तुत कविताओं के अंश उस दौर से हैं जब भगत सिंह को फाँसी लगायी जाने वाली थी, तथा कुछ रचनायें उन्हे फाँसी लगाये जाने के बाद उपजे जनाक्रोश की अभिव्यक्ति हैं। महत्वपूर्ण इन रचनांशों का कविता-तत्व नहीं है अपितु इन्हे प्रस्तुत करने का उद्देश्य आज भी उनकी प्रासंगिकता से परिचित कराना है।

---------------------------------------------------------
है अफसोस कि लाशों को उठाने भी न पाए,
हम फूल शहीदों पे चढाने भी न पाए॥

हम अश्क चिताओं पे गिराने भी न पाये
हम आतशे-सोजां को बुझाने भी न पाये॥

-अज्ञात
---------------------------------------------------------
सुखदेव, भगत सिंह, राजगुरु, थे शमअ-वतन के परवाने
जो सोज दिलों में उनके था, उस सोज को कोई क्या जाने॥

- मौलाना इनामौला खाँ हसनपुरी
---------------------------------------------------------

हम अपने कौमी शहीदों की, क्यों याद दिलों से दूर करें
क्या और किसी नें भुलाये हैं, क्या और किसी नें बिसारे हैं॥

सुखदेव, भगत सिंह, राजगुरु, ये तीनों देश दुलारे हैं
फाँसी पे लटक कर जान जो दी, जी-जान से हमको प्यारे हैं॥

-अज्ञात
---------------------------------------------------------

कहती है माता कर रुदन, कहाँ है हमारा मूलधन,
गोदी से मेरी छीन कर, किसने उसे हटा दिया॥

-अज्ञात
---------------------------------------------------------

यह छींटे खून की उस दमन-ए-कातिल की कहानी है,
शहीदान-ए-वतन की कुछ निशानी, देखते जाओ॥

अभी लाखों ही बैठे हैं बुझाने प्यास अपनी
खतम हो जायेगा खंजर का पानी, देखते जाओ॥

-अज्ञात
---------------------------------------------------------
सुखदेव, भगतसिंह, राजगुरु, आजादी के दीवाने थे।
हंस हंस के झूले फाँसी पर भारत माँ के मस्ताने थे॥

वह मरे नहीं हैं जिंदा हैं, वह अमर शहीद कहायेंगे
वह प्यारे वतन पे निसार हुए, वह वीरों में मरदाने थे॥

-कमल
---------------------------------------------------------

तूने भारत चमन को सींचा है लहू से।
कहाँ जा बसा हो के न्यारा भगत सिंह॥

बुरा हाल है देश भारत का ए लाल
होवे जन्म तेरा दोबारा भगत सिंह॥

-प्रभु नारायण मिश्र
---------------------------------------------------------
आजादी का दीवाना था सरदार भगत सिंह।
फाँसी पर गया झूल वो सरदार भगत सिंह॥

आलम की एक शान था सरदार भगत सिंह।
हर बागी का अरमान था सरदार भगत सिंह॥

- एन.एल.ए बमलट
---------------------------------------------------------
हुआ देश का तू दुलारा भगत सिंह
झुके सर तेरे आगे, हमारा भगत सिंह॥

-अभय
---------------------------------------------------------
भगत सिंह को देख कर चर्ख बोला
दिखाये जिमीं नें जवां कैसे कैसे॥

वतन के दुलारे तडप कर पुकारे,
वतन के भी हैं पासबां कैसे कैसे॥

-हसरत
---------------------------------------------------------

अमर हो गये भगत सिंह, अमर हुआ इतिहास।
जिनकी स्मृति मात्र से उपजे नव विश्वास॥

साहस, धीरज, वीरता का अनुपम उपमान।
धन्य भगतसिंह धन्य हो, महाबीर बलवान॥

-केदारनाथ मिश्र
---------------------------------------------------------

तुम हो शहीद दे गये सीख, भारत के वीर जवानों को
दे गये प्रेरणा बलिदानी, आजादी के दीवानों की॥

तेरे चरणों पर परमवीर, नित श्रद्धा सुमन चढाता हूँ
स्वीकार करो हे त्याग मूर्ति, चरणों में शीष नवाता हूँ..

-अवध किशोर यादव
---------------------------------------------------------
वतन पे जां है गंवाने, रहे रहे न रहे।
और ये जिस्म है फानी, रहे रहे न रहे॥

खुदा के वास्ते कर दो इसे वतन पे निसार
जवानों, फिर ये जवानी, रहे रहे न रहे॥

जला के वह मेरी मैयत बहाएं सतलुज में
फिर उनकी तेग में पानी रहे रहे न रहे॥

-मुश्ताक
---------------------------------------------------------

फाँसी की रस्सियों से हम जा रहे खुदा घर
भारत स्वतंत्र करके तुम भी वहीं पर आना॥

-माता प्रसाद शुक्ल “शुक्ला”
---------------------------------------------------------
हम ज़िन्दगी से रूठ के बैठे हैं जेल में
अब जिंदगी से हमको मनाया न जाएगा॥

हमने लगाई आग है जो इंकलाब की
इस आग को किसी से बुझाया न जायेगा॥

-अज्ञात

---------------------------------------------------------
- नेशनल बुक ट्रस्ट की पुस्तक फाँसी लाहौर की से साभार

15 comments:

  1. पंकज सक्सेना28 सितंबर 2008 को 9:42 am

    यह दुर्लभ संकलन है। आजादी के परवानों का जुनून इन पंक्तियों में साफ देखा जा सकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक से बढ कर एक क्रांतिकारी रचनायें हैं। भगत सिंह को यह सच्ची श्रद्धांजलि है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अंतर्जाल पर भगत सिंह के बारे में कुछ ज्यादा उपलब्ध नही है. निश्चय ही यह जानकारी हासिल करने के लिए कड़े पर्यत्न किए गए होंगे. यही उस वीर शहीद के प्रति सच्ची श्रधांजलि है. आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. very nice afort. keep it up.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्रांतिकारियों के मनोभावों को प्रस्तुत करहा हुआ संकलन है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आजादी हमें आसानी से प्राप्त नहीं हुई स्वाधीनता पूर्व की इस रचनाओं में वह आजादी के लिये जुनून व भगत सिंह की फाँसी के साखिफ आक्रोश साफ समझा जा सकता है। सच यही है कि:

    हमने लगाई आग है जो इंकलाब की
    इस आग को किसी से बुझाया न जायेगा॥

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. भगत सिंह को श्रद्धाँजलि देती बेहद सुंदर और भावपूर्ण पंक्तियों के इस अद्भुत संकलन के लिये आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस संकलन के प्रस्तितिकरण के लिये बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर और भावपूर्ण पंक्तियाँ हैं. आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत अच्छा संकलन... एक एक शबद उस युग की याद दिलाता हु... एक एक शब्द आग से भरा हुआ...
    वतन पे जां है गंवाने, रहे रहे न रहे। और ये जिस्म है फानी, रहे रहे न रहे॥
    खुदा के वास्ते कर दो इसे वतन पे निसार
    जवानों, फिर ये जवानी, रहे रहे न रहे॥
    जला के वह मेरी मैयत बहाएं सतलुज में
    फिर उनकी तेग में पानी रहे रहे न रहे॥
    -मुश्ताक
    हम ज़िन्दगी से रूठ के बैठे हैं जेल में
    अब जिंदगी से हमको मनाया न जाएगा॥

    हमने लगाई आग है जो इंकलाब की
    इस आग को किसी से बुझाया न जायेगा॥
    -अज्ञात
    गजब की प्रेरणा... इस संकलन को यहा प्रस्तुत करने के लिये आपका आभार है...

    उत्तर देंहटाएं
  11. "भगत सिंह की शहादत से
    संदर्भित स्वाधीनता पूर्व की
    रचनायें एक से बढ कर एक ...

    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  12. bhagat singh ko mera koti-koti pranam, aj is desh ko fir apki jarurat hai,

    उत्तर देंहटाएं
  13. bhagat singh ko mera koti-koti pranam, aj is desh ko fir apki jarurat hai,

    उत्तर देंहटाएं
  14. ye hamara kitna bada saubhagya hai ki ham bhi usi mitti me janme hai jis mitti me hamare veer bhagat singh ji janme the par sath hi ise kitna bada durbhagya kaha jayega us janta ka jo aaj apne is veer krantikari ko bhool chuki hai..unhone apna sab kuch logo k liye kurban kar diya par aaj itna dukh lagta hai ki unke janamdin par news or chaanels me unka kahin jikr nhi hai par Ranbir kapoor ka birthday hai sabko yad hai..par hamare idol bhagat singh ji kisi k publicity k mohtaj nhi hai..wo hamesha hamare dilon me raj karte rahenge..kranti zindabad bhagat singh zindabad..sabh shaheedo ko mera koti koti pranam

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget