हिन्दी और राजस्थानी भाषा के लब्ध प्रतिष्ठित कवि श्री कन्हैयालाल सेठिया आज मौन हो गए। वे ९० वर्ष के थे। भारत सरकार ने साहित्य के क्षेत्र में उनके अवदानों का मूल्यांकन करते हुए उन्हें पद्मश्री सम्मान से भी नवाजा था। सेठिया जी के निधन पर देश भर से शोक संवाद प्राप्त हो रहे हैं। पूर्व उपराष्ट्रपति भैरों सिंह शेखावत, राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने अपने संदेशों में सेठिया जी के साहित्यिक अवदानों के साथ-साथ सामाजिक विषयों पर उनके कार्यों को मील का पत्थर कहा है।

व्यापारिक घराने से होने के बावजूद श्री सेठिया ने कभी भी साहित्य के साथ समझौता नहीं किया। उनका जन्म राजस्थान के सुजानगढ़ में ११ सितम्बर १९१९ को हुआ था। उनके पिता का नाम छगनमल सेठिया और माता का नाम मनोहारी देवी सेठिया था। सेठिया जी की प्रारम्भिक पढ़ाई कलकत्ता में हुई। स्वतंत्रता संग्राम में कूद पड़ने के कारण कुछ समय के लिए आपकी शिक्षा बाधित हुई, लेकिन बाद में आपने राजस्थान विश्वविद्यालय से स्नातक की उपाधि प्राप्त की। दर्शन, राजनीति और साहित्य आपके प्रिय विषय थे।

राजस्थान में सामंतवाद के ख़िलाफ़ आपने जबरदस्त मुहिम चलायी और पिछडे वर्ग को आगे लाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया। भारत छोडो आन्दोलन के समय आप कराची में थे। १९४३ में सेठिया जी जयप्रकाश नारायण और राम मनोहर लोहिया के संपर्क में आए। सेठिया जी को ज्ञानपीठ की और से मूर्तिदेवी साहित्य पुरास्कार १९८८ में दिया गया। उसके बाद आपकी विविध कृतियों के लिए साहित्य अकादमी सहित देश की असंख्य संस्थाओं ने सम्मानित किया।

सेठिया जी की अमर कृतियों में ’धरती धोरा री’ राजस्थान का वंदना गीत है, जो करोडो राजस्थानी लोगों के हृदय की आवाज है। महाराणा प्रताप पर उनकी लिखी कविता- पथल आर पीतल काफ़ी लोकप्रिय रही। कुन जमीं रो धनि जैसी सैकड़ों कविताओं के मध्यम से सेठिया जी ने आम आदमी के उत्थान का कार्य किया।

महाकवि के महाप्रयाण पर हार्दिक श्रद्धांजलि .

21 comments:

  1. पंकज सक्सेना11 नवंबर 2008 को 6:08 pm

    महाकवि के महाप्रयाण पर हार्दिक श्रद्धांजलि .

    उत्तर देंहटाएं
  2. Mahakavi padmshri kanhaiya lal
    Sethia ke mahaprayaan par shradanjli

    उत्तर देंहटाएं
  3. कन्हैयालाल सेठिया हिंदी और राजस्थानी के बहुत बड़े कवि थे . बचपन से ही, जबसे पाठ्यक्रम में उनकी कविता 'पाथळ और पीथळ' पढी,तभी से वे मेरे प्रिय कवि बन गए थे.

    उनका लिखा गीत 'धरती धोरां री' तो जैसे राजस्थानी उपराष्ट्रीयता का राष्ट्रगीत है .

    इस महान कवि को मेरी श्रद्धांजलि .

    उत्तर देंहटाएं
  4. श्रद्धेय सेठिया जी को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि।
    उन रिक्ति पूरी नहीं होगी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. दादा सेठियाजी को भावभीना वंदन.
    हो सके तो उनकी रचनाओं की बानगी भी पेश कीजियेगा...वही सच्ची श्रध्दांजली होगी ऐसे
    अनूठे सरस्वती पुत्र को.

    उत्तर देंहटाएं
  6. समाचार सचमुच में पीडादायक है ।

    थोडे में अपनी पूरी बात कहने के धनी सेठियाजी की, दो पंक्तियों की एक कविता बरसों पहले पढी थी -

    झूठ सफेद

    सत्‍य रंगहीन


    सेठियाजी को श्रध्‍दांजलि

    उत्तर देंहटाएं
  7. 'पीतल'र पाथल' और 'धरती धोरां री' अमर गीत के रचयिता महाकवि श्री कन्हैयालाल सेठिया जी को ई-हिन्दी साहित्य सभा की तरफ से भाबभीनी श्रद्धांजलि।

    उत्तर देंहटाएं
  8. कन्हैयालल सेठिया को भावभीनी श्रद्धांजलि। कविता और कवि अमर होते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. श्री सेठिया जी को विनम्र श्रद्धांजलि!

    उत्तर देंहटाएं
  10. श्रद्धांजलि, कन्हैयालाल जी कभी भुलाये नहीं जा सकेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  11. sethiaji ko sachhi shraddhanjali tabhi hogi, jab Rajasthani bhasha ko samvidhan ki aathwin suchi me shamil kar liya jayega.

    उत्तर देंहटाएं
  12. A great poet and a great soul. SHRADDANJALI.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  13. भावभीनी श्रद्धांजलि। साहित्य शिल्पी से मेरा अनुरोध है कि उनके जीवन व रचनाओं पर एक विस्तृत लेख प्रस्तुत करें।

    उत्तर देंहटाएं
  14. अच्छा लेख प्रस्तुत किया है प्रकाश चंडालिया जी नें। मेरी कन्हैयालाल जी को भावभरी श्रद्धांजली।

    उत्तर देंहटाएं
  15. श्रद्धेय कन्हैयालाल सेठिया जी को विनम्र श्रद्धांजलि।

    उत्तर देंहटाएं
  16. आदरणीय कन्हैयालाल सेठिया जी को विनम्र श्रद्धांजलि।

    उत्तर देंहटाएं
  17. महाकवि के महाप्रयाण पर
    हार्दिक श्रद्धांजलि .....

    उत्तर देंहटाएं
  18. कन्हैयालल सेठिया जी को श्रद्धा सुमन अर्पित

    उत्तर देंहटाएं
  19. कन्हैयालाल सेठिया जी पर मैनें विकिपीडिआ हिन्दी में लेख दिया था. बहुत समय से व्यस्त होने के कारण देख नहीं पाया. आज मैंने देखा कि विकिपीडिया में उनके स्वर्ग वास की तिथि ग़लत थी. उसे सुधारा. उनके निधन से बहुत दुख हुआ. भगवान ऐसी आत्माएं बार बार धरती पर अवतरण लें. लक्ष्मण बुरडक

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget