साहित्य शिल्पी ने कुछ समय पूर्व अंतरजाल पर प्रथम संगीतमय प्रस्तुति के रूप में "जी.बी.एन विद्यालय 21-डी, फरीदाबाद" से सौजन्य से बच्चों की मधुर आवाज़ में "अनहद गीत" नामक संग्रह का एक गीत प्रस्तुत किया था जिसका संगीत संयोजन किया है प्रतिभावान संगीतकार रीना कपिल ने।


इसी क्रम में आज आइये सुनें "अनहद गीत" की दूसरी प्रस्तुति "दिखने में हम छोटे हैं पर नहीं किसी से कम..." :

8 comments:

  1. बच्चों की आवाज गीत में मधुर लग रही है। रीना कपिल व जी.बी.एन विद्यालय को बधाई इस प्रस्तुति के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मधुर स्वर व उतना ही कर्णप्रिय संगीत.. इस प्रस्तुति के लिये रीना कपिल जी व प्रस्तुतकर्ता बच्चे बधाई के पात्र हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  3. पंकज सक्सेना4 दिसंबर 2008 को 1:20 pm

    सुबह से कई बार सुना इसे, मनमोहक है गीत।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बच्चों की बहुत अच्छी गीत.. जी बी एन स्कूल को बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. बच्चों ने बहुत अच्छी तरह गाया है। रीना कपिल और जी.बी.एन विद्यालय को बधाई एवं शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बच्चों की आवाज में
    मधुर - गीत ....


    जी.बी.एन विद्यालय को
    बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  7. bachho ko aur reena ji ko aur sahitya shilpi ko badhai ..

    geet ka tempo apni pakadh banaye hue hai .. aur bacchon ke mukh se ye geet sahi mein ye baya kar raha hai ki "honhaar birwan ke hot cheekane paat "

    badhai

    vijay

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget