पचास के कुछ ऊपर हैं वह, एक दौर के सुपर स्टार साहित्यकार टाइप।
उनसे मिलना बेहद डराने वाला तजुरबा होता है।
वह बताते हैं-फलांजी ने उन्हे फोन करके उस मैगजीन का पूरा इशू प्लान करने को कहा था। अलांजी, उनसे पूछे बगैर किसी लेखक को अपनी मैगजीन में नहीं छापते थे। ठलांजी ने उन्हे अपने समय का आस्कर वाइल्ड कहा था। शलांजी ने उन्हे कहा था कि तुम तो बर्नार्ड शा हो।
ये सब सुनाते हुए उनके चेहरे पर अलग सी चमक आ जाती है।
जैसी चमक निर्मल वर्मा की एक कहानी के उस पात्र के चेहरे पर आती होगी, जो पात्र अपने पुराने दौर की दीवानगिरी को याद करता है।
विकट बोरिंग हो जाते हैं वह, पर उससे भी ज्यादा दयनीय।
एक बार सुना था। फिर जब भी जाना होता, सुनना पड़ता है।
वो भूल जाते हैं कि इन्हे बताया जा चुका है।
या तो उनके पास सुनने वाले नहीं हैं।
या फिर उनके पास सुनाने के लिए कुछ नहीं है।
क्या करें। उनसे मिलना छोड़ दें। फिर उस चमक की संभावनाएं बहुत कम हो जायेंगी।
उन्हे देखकर मैं डरकर सोचता हूं कि क्या उम्र के उस दौर में पहुंच कर मैं भी ऐसा ही करुंगा। संस्मरण सुनाऊंगा, बोर करुंगा।
यह सोचकर आतंकित हो जाता हूं।
संस्मरणजीवी लोग कहीं न कहीं मरणजीवी हो जाते हैं।
शायद उन्हे लगता है कि जो भी श्रेष्ठ था, उसे वह कर चुके हैं।
अब शायद कुछ और करने को बाकी नहीं है।
अब सिर्फ संस्मरण ही बाकी हैं।
पर देखो, तो कितना कुछ है करने को। देखो, तो संस्मरण सुनाने को टाइम कहां है।
नहीं, मैं संस्मरण मोड में कभी नहीं जाऊंगा।
सत्तर साल तक रोज व्यंग्य लिखूंगा।
व्यंग्य, व्यंग्य के बाद उपन्यास लिखूंगा। फिर कुछ यात्रा वृतांत। फिर शेयर बाजार पर कुछ किताबें। फिर शेयर बाजार का नये सिरे से अध्ययन।
कोई पुराने तजुरबों की पूछेगा, तो बोल दूंगा छोड़ ना यार, अभी की सुन।

भई प्लान तो यही है, दुआ करें कि संस्मरण ना ठेलने लगूं।

13 comments:

  1. संस्मरणजीवी लोग कहीं न कहीं मरणजीवी हो जाते हैं।
    शायद उन्हे लगता है कि जो भी श्रेष्ठ था, उसे वह कर चुके हैं।
    अब शायद कुछ और करने को बाकी नहीं है।
    अब सिर्फ संस्मरण ही बाकी हैं।


    बहुत बहुत सही कहा आपने ......
    लेकिन हमारी दुआ है कि आप अगले पचास वर्षों तक व्यंग लिखते रहें और आपके बनाये रास्ते पर लोग चलें.

    उत्तर देंहटाएं
  2. संस्मरण की बात कर रहे हैं, तो संस्मरण तो हमारे ... सुनाया करते थे । एक बार क्या हुआ ....
    अरे मैं तो संस्मरण, वह भी कम संस् अधिक मरण सुनाने जा रही थी !
    आप तो बस जो कर रहे हैं वह करते रहें और जो नया अच्छा लगे वह करियेगा। बस किसी बच्चे को कह दीजिएगा कि संस्मरण सुनाने लगें तो टोक दें। घर के दरवाजे पर तख्ती टंगवा दीजिएगा 'यहाँ संस्मरण सुनना मना है।' सुनाने वाले को तो तख्ती पढ़ना ही याद न रहेगा। हा हा, यह तो हम पचास साठ साल बाद की बात कर रहे हैं तब तक तो आप फिट रहेंगे।
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  3. संस्मरणजीवी लोग कहीं न कहीं मरणजीवी हो जाते हैं और मरणजीवी स्मरणीय जीव हो जाते है .
    क्या बात है पुराणिक जी . जोरदार पोस्ट कुछ हटकर . कल आपके मित्र श्री योगेश जी (गाजियाबाद) से टेलीफोन पर चर्चा हुई .उनसे पता चला की आप उनके मित्र है और आप देहली में ही है .
    धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  4. Sansmaran par vyangya achchha lagaa
    hai.kahin anavashyak vistaar nahin
    hai.Aalok jee ne soojh-bhooj se
    lekh likha hai.Badhaee.

    उत्तर देंहटाएं
  5. अपनी तो दुआ है कि ऊपरवाला आपकी सभी तमन्नाएँ पूरी करे.....

    अच्छा व्यंग्य...

    उत्तर देंहटाएं
  6. संस्मरणजीवी लोग कहीं न कहीं मरणजीवी हो जाते हैं।
    शायद उन्हे लगता है कि जो भी श्रेष्ठ था, उसे वह कर चुके हैं।
    अब शायद कुछ और करने को बाकी नहीं है।
    अब सिर्फ संस्मरण ही बाकी हैं।


    sanmaran par vayang kafi achha raha shabad bahut asardaar rahe aap ka vayang sochne par majboor karta raha aise hi kuch aur naye vishayon par aapki soch aur unhe dekhne ka nazriyan padne ka intezaar hain

    उत्तर देंहटाएं
  7. बचते बचते
    संस्‍मरण का

    आलोक जला

    ही दिए।

    उत्तर देंहटाएं
  8. हमें उपन्यास का इंतजार है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपके तो संस्मरण भी मजेदार होंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  10. नयापन लिये ,एक अलग सा सुंदर व्यंग्य लेख ।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  11. wah alok ji ,
    bahut sundar baat .. sansmaran ke naam par kya nahi hota..

    bahut bahut badhai ..

    aapka
    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget