बस्तर क्षेत्र स्वयं में बडी सांस्कृतिक विरासत समेटे हुए है। नृत्य और गीत वहाँ का जीवन है। आज अभियान संस्था, जगदलपुर के लोक कलाकार साहित्य शिल्पी पर प्रस्तुत कर रहे हैं हल्बी परब लोक नृत्य।

सोन सी और साथियों द्वारा प्रस्तुत यह लोक नृत्य सत्यजीत भट्टाचार्य, अध्यक्ष अभियान द्वारा उपलब्ध कराया गया है।

आईये इस लोक-प्रस्तुति का आनंद लें।


8 comments:

  1. Video take long time while buffering, but it is a rare video.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक साथ थिरकते कदम और नृत्य देख कर आनंद आ गया।

    उत्तर देंहटाएं
  3. लोक-नृत्य हमारी संस्कृति का अभिन्न अंग हैं। जन-सामान्य के जीवन में इनका स्थान अत्यंत महत्वपूर्ण रहा है।
    इस प्रस्तुति के लिये आप बधाई के पात्र हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदिवासी नृत्य की यह प्रस्तुति बहुत अच्छी है। खुलने में समय लगता है। इसे डाउनलोड कैसे किया जा सकता है?

    उत्तर देंहटाएं
  5. विविध प्रस्तुतिकरण साहित्य शिल्पी की विशेषता है। साहित्य और संस्कृति के प्रति इस वेबसाईट द्वारा किया जा रहा कार्य प्रशंसा के योग्य है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छा वीडियो है। सोन सी और साथी तथा सत्यजीत भट्टाचार्य को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छा लगा इस वीडियो को देखना। मुझे इस नृत्य को प्रत्यक्ष देखने का सौभाग्य प्राप्त है जो मेरे लिये अनुभव था।

    उत्तर देंहटाएं
  8. पंकज सक्सेना19 फ़रवरी 2009 को 4:02 pm

    नृत्य के अलावा मुझे वेश भूषा बहुत अच्छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget