Photobucket

पिछले सप्ताह स्वर शिल्पी पर हमने साहित्य शिल्पी द्वारा गाज़ियाबाद में आयोजित करवाये गये कवि-सम्मेलन में सम्मिलित मशहूर शायर ज़नाब मासूम ग़ाज़ियाबादी साहब की एक गज़ल आपको सुनवाई थी। इसी क्रम को ज़ारी रखते हुये आइये आज सुनते हैं कवि सुभाष नीरव को।

सुभाष जी की इस खूबसूरत रचना "परिंदा" के बोल हैं:

परिंदे मनुष्य नहीं होते
धरती और आकाश
दोनों से रिश्ता रखते हैं परिंदे
उनकी उड़ान में है अनन्त व्योम
धरती का कोई टुकड़ा
वर्जित नहीं होता
परिंदों के लिये।

घर-आँगन, गाँव-बस्ती, शहर
किसी में भी भेद नहीं करते परिंदे
जाति, धर्म, नस्ल, संप्रदाय से
बहुत ऊपर होते हैं ये परिंदे।
मस्ज़िद में, मंदिर में
चर्च में और गुरुद्वारों में
वे कोई फर्क नहीं करते
जब चाहे बैठ जाते हैं उड़ कर
उनकी ऊँची बुर्जियों पर
बेख़ौफ़।

रचनाकार परिचय:-


 का जन्म 27–12–1953 को मुरादनगर (उत्तर प्रदेश) में हुआ। मेरठ विश्वविद्यालय से स्नातक तथा भारत सरकार के पोत परिवहन मंत्रालय में अनुभाग अधिकारी(प्रशासन) के तौर पर कार्यरत सुभाष नीरव की कई कृतियाँ यथा ‘यत्कचित’, ‘रोशनी की लकीर’ (कविता संग्रह); ‘दैत्य तथा अन्य कहानियाँ’, ‘औरत होने का गुनाह’, ‘आखिरी पड़ाव का दु:ख’(कहानी-संग्रह); ‘कथाबिंदु’(लघुकथा–संग्रह), ‘मेहनत की रोटी’(बाल कहानी-संग्रह) आदि प्रकाशित हैं। लगभग 12 पुस्तकों का पंजाबी से हिंदी में अनुवाद भी वे कर चुके हैं और अनियतकालीन पत्रिका ‘प्रयास’ और मासिक ‘मचान’ का सम्पादन भी कर रहे हैं।

हिन्दी में लघुकथा लेखन के साथ-साथ पंजाबी-हिन्दी लघुकथाओं के श्रेष्ठ अनुवाद के लिए उन्हें ‘माता शरबती देवी स्मृति पुरस्कार, 1992’ तथा "मंच पुरस्कार, 2000" से सम्मानित किया गया जा चुका है।

"साहित्य सृजन" तथा अन्य कई ब्लाग्स के माध्यम से अंतर्जाल पर भी वे सक्रिय हैं।



कर्फ़्यूग्रस्त शहर की
खौफ़ज़दा, वीरान और सुनसान
सड़कों, गलियों में विचरने से भी
नहीं घबराते परिंदे।
प्रांत, देश की हदों,
सरहदों से भी परे होते हैं
आकाश में उड़ते परिंदे।
इन्हें पार करते हुये
नहीं चाहिये होती उन्हें कोई अनुमति
नहीं चा्हिये होता कोई पासपोर्ट, वीजा
शुक्र है!
परिंदों ने नहीं सीखा
मनुष्य की तरह रहना
ज़मीन पर।



इस समारोह में पढ़ी गई कुछ अन्य रचनायें भी हम आगे इसी स्तंभ में प्रस्तुत करेंगे।

24 comments:

  1. शुक्र है!
    परिंदों ने नहीं सीखा
    मनुष्य की तरह रहना
    ज़मीन पर।

    नीरव जी की यह प्रभावी कविता है। स्वर शिल्पी के माध्यम से इसका प्रस्तुतिकरण अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुक्र है!
    परिंदों ने नहीं सीखा
    मनुष्य की तरह रहना
    ज़मीन पर।
    " इंसानियत के मर्म को मुखर करती भावनात्मक कविता"

    regards

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्‍छा लगा आवाज में

    दोबारा सुनना

    सुना पहले भी है

    पर इससे बार बार
    सुन सकते हैं

    चाहे जितनी बार

    और सुनवा भी सकते हैं सबको

    अच्‍छा लगा यह कर्म

    कविता पढ़ना ही है
    कवि का धर्म।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति है, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. कर्फ़्यूग्रस्त शहर की
    खौफ़ज़दा, वीरान और सुनसान
    सड़कों, गलियों में विचरने से भी
    नहीं घबराते परिंदे।
    प्रांत, देश की हदों,
    सरहदों से भी परे होते हैं
    आकाश में उड़ते परिंदे।

    काश आदमी ही परिंदा हो जाता।

    उत्तर देंहटाएं
  6. नीरव जी की यह कविता पहले भी पढी है लेकिन सुनने का अलग आनंद है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. Subhash bhai

    For technical reasons I could not listen to your voice, but I have already read this poem. Jis tarha kuchh behtareen filmi geet insaan kabhi bhee gunguna sakta hai, theek usee tarha aap kee ye kavita har bar sunney par ek naya arth deti hai. Badhai.

    Tejendra Sharma
    Katha UK (London)

    उत्तर देंहटाएं
  8. परिंदों के माध्यम से कितनी सहज बात...........लाजवाब बात कह दी है नीरव जी ने.......

    उत्तर देंहटाएं
  9. परिन्दों को उपमान बना कर लिखी गई सुन्दर कविता

    उत्तर देंहटाएं
  10. आदरणीय सुभाष जी, आपकी रचना और आपका प्रस्तुतिकरण प्रभावी होता है। आपकी साहित्य साधना स्तुत्य है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. गाज़ियाबाद के बाद अब यहाँ पर फिर से सुनना अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुभाष नीरव की ’परिन्दे’ एक अद्भुत कविता है. परिन्दे के माध्यम में कवि ने जो भाव प्रस्तुत किए हैं और जिस खूबसूरती से उसे कहा वह मौलिक और श्लाघनीय है. हिन्दी के समकालीन कविता में ’परिन्दे’ का स्थान सुरक्षित रहेगा ऎसा मेरा मानना है. कवि और साहित्य शिल्पी को इसके लिए बधाई.

    रूपसिंह चन्देल

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुभाष जी की कविता परिंदा सुनी भी और पढ़ी भी- लाजवाब .अद्भुत, सशक्त अभिव्यक्ति- परिंदों के माध्यम से गहरा सन्देश देती भावनात्मक कविता. अभिनन्दन!
    सुधा

    उत्तर देंहटाएं
  14. bahut hi sunder likha hai .sach hai kash hum ne kuchh sikha hota
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  15. दोनों से रिश्ता रखते हैं परिंदे
    उनकी उड़न में है अनंत व्योम. - छेकानुप्रास
    धरती का कोई टुकडा
    वर्जित नहीं होता - छेकानुप्रास

    मन्दिर में, मस्जिद में
    चर्च में और गुरुद्वारों में -व्रंत्यानुप्रास

    उत्तर देंहटाएं
  16. कविता जितनी पढ़ने में सुंदर है, उतनी ही सुनने में भी अच्‍छी लगी । बहुत बहुत बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. कविता जितनी पढ़ने में सुंदर है, उतनी ही सुनने में भी अच्‍छी लगी । बहुत बहुत बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. कविता जितनी पढ़ने में सुंदर है, उतनी ही सुनने में भी अच्‍छी लगी । बहुत बहुत बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. kya baat hai subhash ji , waah waah sun kar maza aa gaya ..ji dil khush ho gaya ...


    aapko aur sahitya shilpi ko badhai ..

    विजय
    http://poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  20. सुभाष जी को प्रत्यक्ष सुनने के बाद इस रचना का दूसरी बार सुनना अच्छा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  21. Meri kavita "Parinde" par tippni karne ya apni bahumulya rai dene wale sabhi mitroN ka main shukrguzar hun. Isse zahir hota hain ki kavita meiN main jo kahna chahta tha, vo bhali bhanti sampreshit ho gaya hai. Shahitya Shilpi ka bhi aabhari hun ki unhone "swar shilpi" ke antargat meri kavita prakashan kiya aur audio bhi sunne ki liye prastut kiya.

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत सुंदर कहा।अगर जीवन मे उतरे ।बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget