यादों का मानव-जीवन में अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान है। वास्तविक घटना के वर्षों बाद भी उसकी याद अपना असर दिखाती रहती है। जीवन-पथ में मानव बार-बार यादों की इस एकांत कोठरी में लौटता रहता है; फिर चाहे ये यादें सुखद हों या पीड़ादायक। और अगर ये याद किसी ऐसे व्यक्ति से जुड़ी हो जिसे कभी मन ने अपना सर्वस्व माना हो तब तो बात ही क्या है!

ऐसी ही एक अनुभूति को शब्द देता है, स्वरशिल्पी द्वारा प्रस्तुत कवि महेंद्र भटनागर का ये गीत; जिसे आवाज़ दी है, उन्हीं के सुपुत्र आदित्य विक्रम ने। तो आइये सुनते हैं सुधियों के सागर में डूबता-उतराता ये गीत:








11 comments:

  1. bahut badiya ,

    kudos to sahitya shilpi team and also to mahendra .

    maza aa gaya yaar. rythem ek dum sahi hai , thoda sa tempo fast hai ,jo ki geet ke emotions ke saath nahi hai , par these are small issue , the overall presentation is wonderful. I heard first time such kind of experiment. vvery good, ab to mujhe bhi lag raha hia ki main apne geeton ko awaaj doon.

    meri shubkamnaye sahityashilpi team ke saath , bahut kuch naya hai is manch par. aur main chahta hoon ko aur bhi kuch naya ho..

    regards

    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  2. मखमली आवाज है, कविता अच्छी है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर शब्द सुर लय और ताल... बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. तलत अजीज जैसी आवाज है कविता की जितनी प्रशंसा की जाये कम है। बहुत अच्छी प्रस्तुति है। साहित्य शिल्पी को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. महेन्द्र जी अच्छा गीत है जिसे उतनी ही अच्छी आवाज मिली है। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. Father and son..nice jodi..perfect combination of poetry and voice

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  7. मनोहारी गीत। अच्छी प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस गीत को सुनना बहुत अच्छा अनुभव रहा। "आज तुम्हारी आई याद.." बहुत कोमलता से गाया गया है कि उसकी मिठास कानों में रह गयी।

    उत्तर देंहटाएं
  9. महेन्द्र जी का गीत बहुत अच्छा लगा और आदित्य जी की आवाज़ ने उसको और मधुर बना दिया। दोनो को बहुत-बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. महेन्द्र भटनागर जी जैसे वरिष्ठ कवियों की रचनायें वैसे भी अनुभवों का खजाना होती हैं उस पर उन्हे सुनना एक अलग ही अनुभव है। पिता-पुत्र युगल नें साहित्य शिल्पी पर इस प्रस्तुति द्वारा समाँ बाँध दिया है। रेशमी आवाज और बेहतरीन कविता...और क्या चाहिये..


    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत अच्छी प्रस्तुति....


    साहित्य शिल्पी को
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget