चाँद उग़ आया पूनम का !
शरद ऋतु के स्वच्छ गगन पर,
चाँद उग़ आया पूनम का !
सरस युगल सारस - सारसी का,
तैर रहा, झिलमिल जल पर !

खेत खलिहानोँ मेँ पकी फसल-
मुस्कान रँगे मुख, कृषक - वधू के
व्रत त्योहार - रास युमना तट
रुन झुन , रुन झुन, झाँझर के स्वर!

धरती डोली, हौले हौले, बहे पवन
-मुस्काता, बन, शशि, चँचल, हिरने पर !
फैलाती चाँदी सी- शरदिया चाँदनी
मँदिरोँ मेँ बज रहे - शँख ढफ
पखावज, मँजीरे धुन,कीर्तन के सँग!

आई शरद ऋतु मन भावन,
व्रत त्याहारोँ से घर आँगन पावन,
नवरात्र रास, माँ सिँहधारिणी सौम्य सुहावन!
करवा चौथ, दशहरा, आए पाप नशावन !

खनन्` - खनन्` मँजीर बज रहे
धमक -धमक रास की रार मची
-चरर्` चरर्` तैली का बैल चला
-सरर्` सरर्` चुनरी लिपटी रमणी पर -

शक्ति आह्वान करो! माँ भवानी सुमरो !
अम्बिका, वरदायिनी, कल्याणी, कालिका, पूजो!
घर - घर मेँ ज्योत, प्रखर कर लो !
शरद शारदा - वीणापाणि माँ सरस्वती भजो !
हरो तिमिर आवरण माँ, कृपा कर दो !

बिखरा दो, उज्जवल प्रकाश अवनी पर माँ !
शारदीय पूर्ण चन्द्र ज्योत्सना फैला दो माँ !
स्वागत, मँगल आगमन शरद - चँद्रिका माँ !
कृपा सिँधु, कमलिनी, सुमधुर स्मित बिखरा दो माँ !
जग तारिणी, सिँह आसनी ममता का कर, धर दो माँ !
जन - जन - के दु:ख हर, शीतल कर दो माँ!
कात्यायनी नमोस्तुते ! हे अम्बिके, दयामयी नमोस्तुते!
*****

25 comments:

  1. Manbhaatee kavita ke liye
    Lavanya jee ko badhaaee.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बिखरा दो, उज्जवल प्रकाश अवनी पर माँ !
    शारदीय पूर्ण चन्द्र ज्योत्सना फैला दो माँ !
    स्वागत, मँगल आगमन शरद - चँद्रिका माँ !
    कृपा सिँधु, कमलिनी, सुमधुर स्मित बिखरा दो माँ !
    जग तारिणी, सिँह आसनी ममता का कर, धर दो माँ !
    जन - जन - के दु:ख हर, शीतल कर दो माँ!
    कात्यायनी नमोस्तुते ! हे अम्बिके, दयामयी नमोस्तुते
    अति सुन्दर। वीर रस से परिपूर्ण कविता ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाहवा.. बहुत सुंदर कविता के लिये बधाई स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. अद्भुत शब्द...लाजवाब भाव....बेमिसाल रचना...वाह. लावण्या दी आप का जवाब नहीं...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  5. काव्य-कला पक्ष और भाव पक्ष दोनों ही के स्तर इस कविता में लावण्य जी की अन्य कविताओं की भांति अपना महत्व बनाए हुए हैं। बहुत सुंदर!

    उत्तर देंहटाएं
  6. लावण्या जी को सुन्दर रचना के लिए बहुत-बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. बिखरा दो, उज्जवल प्रकाश अवनी पर माँ !
    शारदीय पूर्ण चन्द्र ज्योत्सना फैला दो माँ !
    स्वागत, मँगल आगमन शरद - चँद्रिका माँ !
    कृपा सिँधु, कमलिनी, सुमधुर स्मित बिखरा दो माँ !
    जग तारिणी, सिँह आसनी ममता का कर, धर दो माँ !
    जन - जन - के दु:ख हर, शीतल कर दो माँ!
    कात्यायनी नमोस्तुते ! हे अम्बिके, दयामयी नमोस्तुते!

    कितना सुन्दर शब्द संयोजन, बहुत प्रभावी रचना है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. जब भी यह भाषा और एसी उत्कृष्ट रचना दृष्टिगोचर होती है मन कह उठता है अभी साहित्य जीवित है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. mere paas shabd hi nahi hai ,is kavita ki taarif karne ke liye , sirf itna kahunga ki amulya. shandaar prastuti .
    poore mausam , khil uthen hai , jag jaag utha hai , in fact sansaar hai hi itna khoobsurat ..
    dil ko bada sakun mila .....

    bahut bahut badhai lavanya ji ..
    aur likhiye ..
    may god bless you.

    regards

    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत अच्छी कविता, संग्रह रखने योग्य।

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर शब्द भावों का संगम.. कर्ण प्रिय प्रसार

    उत्तर देंहटाएं
  12. Poem has height and depth.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  13. पंकज सक्सेना20 नवंबर 2008 को 12:25 pm

    भाषा और भाव की उत्कृष्टता है आपकी रचना में।

    उत्तर देंहटाएं
  14. साहित्य शिल्पी एसी ही उत्कृष्ट रचनाओं के प्रकाशन के कारण चर्चा में है। लावण्या जी की रचना अनुपम है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. कविता की उत्कृष्टरा निर्विवाद है। मैं इसमें प्रयुक्त ध्वनि-स्वरों से नितांत प्रभावित हुआ। रुन झुन , रुन झुन, खनन्` - खनन्`, धमक -धमक,सरर्` सरर्`...इन शब्दों नें कविता को प्रवाह प्रदान किया है।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुंदर....


    लावण्य जी
    बधाई स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  17. आप सभी के स्नेह
    व प्रोत्साहन से
    अभिभूत हूँ
    लिखती रहूँगी ..
    माँ शारदा की कृपा
    आप सब
    पर बनी रहे
    इस सद्` आशा सहित
    विनीत,
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  18. बिखरा दो, उज्जवल प्रकाश अवनी पर माँ !
    शारदीय पूर्ण चन्द्र ज्योत्सना फैला दो माँ !
    स्वागत, मँगल आगमन शरद - चँद्रिका माँ !
    कृपा सिँधु, कमलिनी, सुमधुर स्मित बिखरा दो माँ !

    सुंदर कविता !
    बहुत-बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शनिवार 17 अक्टूबर 2015 को लिंक की जाएगी ....
    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget