रचनाकार परिचय:-
कृष्ण कुमार यादव का जन्म 10 अगस्त 1977 को तहबरपुर, आजमगढ़ (उ0 प्र0) में हुआ। आपनें इलाहाबाद विश्वविद्यालय से राजनीति शास्त्र में स्नात्कोत्तर किया है। आपकी रचनायें देश की अधिकतर प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हैं साथ ही अनेकों काव्य संकलनों में आपकी रचनाओं का प्रकाशन हुआ है। आपकी प्रमुख प्रकाशित कृतियाँ हैं: अभिलाषा (काव्य संग्रह), अभिव्यक्तियों के बहाने (निबन्ध संग्रह), इण्डिया पोस्ट-150 ग्लोरियस इयर्स (अंग्रेजी), अनुभूतियाँ और विमर्श (निबन्ध संग्रह), क्रान्ति यज्ञ:1857-1947 की गाथा।
आपको अनेकों सम्मान प्राप्त हैं जिनमें सोहनलाल द्विवेदी सम्मान, कविवर मैथिलीशरण गुप्त सम्मान, महाकवि शेक्सपियर अन्तर्राष्ट्रीय सम्मान, काव्य गौरव, राष्ट्रभाषा आचार्य, साहित्य-मनीषी सम्मान, साहित्यगौरव, काव्य मर्मज्ञ, अभिव्यक्ति सम्मान, साहित्य सेवा सम्मान, साहित्य श्री, साहित्य विद्यावाचस्पति, देवभूमि साहित्य रत्न, सृजनदीप सम्मान, ब्रज गौरव, सरस्वती पुत्र और भारती-रत्न से आप अलंकृत हैं। वर्तमान में आप भारतीय डाक सेवा में वरिष्ठ डाक अधीक्षक के पद पर कानपुर में कार्यरत हैं।
मँहगी गाड़ियों और वातानुकूलित कक्षों में बैठ
वे जीते हैं एक अलग जिन्दगी
जब सारी दुनिया सो रही होती है
तब आरम्भ होती है उनकी सुबह
रंग-बिरंगी लाइटों और संगीत के बीच
पैग से पैग टकराते
अगले दिन के अखबारों में
पेज थ्री की सुर्खियाँ
बनते हैं ये लोग
देर शाम किसी चैरिटी प्रोग्राम में
भारी-भरकम चेक देते हुये और
मंत्रियों के साथ फोटो खिंचवाते हुये
तैयार कर रहे होते हैं
राजनीति में आने की सीढ़ियाँ
सुबह से शाम तक
कई देशों की सैर करते
कर रहे होते हैं डीलिंग
अपने लैपटाँप के सहारे
वे नहीं जाते
किसी मंदिर या मस्जिद में
कर लेते हैं ईश्वर का दर्शन
अपने लैपटाँप पर ही
और चढ़ा देते हैं चढ़ावा
क्रेडिट-कार्ड के जरिये
सुर्खियाँ बनती हैं
उनकी हर बात
और दौड़ता है
मीडिया का हुजूम उनकी पीछे
क्योंकि
तय करते हैं वे
सेंसेक्स का भविष्य
पर्दे के पीछे से करते हैं
सरकारों के भविष्य का फैसला
बनती है आकर्षण का केन्द्र-बिंदु
सार्वजनिक स्थलों पर उनकी मौजूदगी
और इसलिए वे औरों से अलग हैं।

11 comments:

  1. इस विषय पर पहली कविता पढी है मैने।

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्योंकि
    तय करते हैं वे
    सेंसेक्स का भविष्य
    पर्दे के पीछे से करते हैं
    सरकारों के भविष्य का फैसला
    बनती है आकर्षण का केन्द्र-बिंदु
    सार्वजनिक स्थलों पर उनकी मौजूदगी
    और इसलिए वे औरों से अलग हैं।

    सत्य है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. देर शाम किसी चैरिटी प्रोग्राम में
    भारी-भरकम चेक देते हुये
    और मंत्रियों के साथ फोटो खिंचवाते हुये
    तैयार कर रहे होते हैं
    राजनीति में आने की सीढ़ियाँ
    ...पेज थ्री के बहाने बड़े लोगों की पोल खोलती कविता.बधाई!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह भाई! मान गए. बड़ा सटीक चित्रण है आपकी कविता में.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ...यहाँ यह भी देखना होगा की जिस तरह मीडिया इन पेज थ्री के चेहरों को अनावश्यक महत्व देकर उन्हें यूथ आइकन बनती है, वह कितना उचित है...एक सार्थक कविता हेतु साधुवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  6. पेज थ्री के बहाने समाज के तथाकथित उच्च वर्ग के सरोकारों (?) को दर्शाती उत्कृष्ट कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  7. पेज थ्री के बहाने समाज के तथाकथित उच्च वर्ग के सरोकारों (?) को दर्शाती उत्कृष्ट कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  8. मँहगी गाड़ियों और वातानुकूलित कक्षों में बैठ
    वे जीते हैं एक अलग जिन्दगी
    जब सारी दुनिया सो रही होती है
    तब आरम्भ होती है उनकी सुबह
    रंग-बिरंगी लाइटों और संगीत के बीच
    पैग से पैग टकराते
    अगले दिन के अखबारों में
    पेज थ्री की सुर्खियाँ
    ....Adbhut.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहद सुन्दर अभिव्यक्ति और भाव..बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  10. अद्भुत, इस तरह की कविता कभी-कभी पढने को मिलती है....बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget