Gazal by Abdul Rehman Mansoor
ऊँचे ऐवान हैं बेख़ौफ़-ओ-ख़तर पानी में
डूबते देखे गरीबों के ही घर पानी में
रचनाकार परिचय:-
श्री अब्दुल रहमान मन्सूर दिल्ली व आसपास में एक जाने-माने गज़लकार होने के साथ साथ गज़ल के रचना-शास्त्र (उरूज़) के उस्ताद के रूप में भी जाने जाते हैं। वर्तमान में फरीदाबाद में निवास कर रहे रहमान साहब मूलत: मुरादाबाद से सम्बद्ध हैं।

आप पिछले बीस से भी अधिक वर्षों से संज़ीदा और मज़ाहिया (हास्य) दोनों तरह की गज़लों और गीतों की रचना करते आ रहे हैं। विभिन्न क्षेत्रीय व राष्ट्रीय स्तर के मुशायरों में शिरकत कर आपने सुनने वालों को अपनी खूबसूरत गज़लों और गीतों के सम्मोहन में बाँधा है।

पेट भरने के लिये मेरे वतन में अब भी
काम मज़दूर करें ता-ब-कमर पानी में

दिल तेरी झील सी आँखों में उतरना चाहे
क्या इसे आया ख़ुदा जाने नज़र पानी में

दास्ताँ मेरी भी ऐ दोस्त उसके जैसी है
सूखता देखा है तूने जो शज़र पानी में

हालात-ए-शहर जो देखे तो भरम टूट गया
हम समझते थे कि हैं सिर्फ मगर पानी में

तेरे बीमार-ए-मुहब्बत की दवा बन जाये
फूँक ही मार के रख दे तू अगर पानी में

आदमी के लिये कुछ भी तो नहीं नामुमकिन
ज़िद पे आये तो बना डाले डगर पानी में

9 comments:

  1. उस्ताद शायर की ग़ज़ल पढ कर ही पता चल जाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदमी के लिये कुछ भी तो नहीं नामुमकिन
    ज़िद पे आये तो बना डाले डगर पानी में

    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  3. कथ्य की बात तो है ही यह शेर रोमांटिक भी अच्छा बना है -
    दिल तेरी झील सी आँखों में उतरना चाहे
    क्या इसे आया ख़ुदा जाने नज़र पानी में

    उत्तर देंहटाएं
  4. हालात-ए-शहर जो देखे तो भरम टूट गया
    हम समझते थे कि हैं सिर्फ मगर पानी में
    Bahut hi naayab sher. Zindagi ke aaine mein aks dikhayi de raha hai.
    Daad ke saath Rahmaan Mansoor Ji ko aur sahitya Shilpi ko ise pesh karne ke liye.
    Devi nangrani


    Devi Nangrani

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह! कथ्य और भाव दोनों गहरे पानी में.

    उत्तर देंहटाएं
  6. दास्ताँ मेरी भी ऐ दोस्त उसके जैसी है
    सूखता देखा है तूने जो शज़र पानी में

    Thanx
    Shakti

    उत्तर देंहटाएं
  7. हालात-ए-शहर जो देखे तो भरम टूट गया
    हम समझते थे कि हैं सिर्फ मगर पानी में
    kya baat kahi puri gazal hi bahut sunder hai
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget