main jab bhi baat karta huun, a poem by Om Prakash Sharma
मैं जब भी बात करता हूँ
किसी के बारे में
सिर्फ अपने बारे में बात करता हूँ
या किसी शहर के बारे में बात करूँ
इसका मतलब अपने शहर पर बात करना होता है
poem by Om Prakash Sharmaरचनाकार परिचय:-
नाम - ओमप्रकाश शर्मा
जन्म - २० जनवरी १९५६
शिक्षा - एम.ए., पी.एच.डी.
प्रकाशन - दो कविता संग्रह और आलोचना पर एक पुस्तक के अतिरिक्त महत्वपूर्ण पत्रिकाओं मे लगातार प्रकाशित
पुरुस्कार - कविता के लिये ’वागीश्वरी ’पुरुस्कार

किसी और के बारे में बात करने से
अच्छा और पुख्ता तरीका नहीं हो सकता
अपने ओैर अपने शहर के बारे में बात करने का

मैं क्या जान सकता हूँ
किसी और अदमी या शहर के बारे में
कितनी भी कोशिश करूँ
यदि जान भी लूँ किसी और शहर के बारे में
मुझे क्या हक है उसके बारे में बात करने का

मैं देश के किसी भी
शहर के दंगों पर बात करूँ
या देश के बाहर
किसी और देश के युद्ध के बारे में बात करूँ
या फिर बारूद में तब्दील हो चुके
ईराक, अफगान या पाकिस्तान
मैं किसी भी तरह के आतंक पर बात करूँ
दरअसल इसका मतलब
अपनी संस्कृति और सभ्यता पर बात करना होता है

जब भी बात करता हूँ
किसी औरत के बारे में
इससे अच्छा और कोई तरीका नहीं है मेरे पास
मेरे भीतर न जाने कब से पैदा हुई
स्त्री के बारे में बात करने का

मैं जब भी बात करता हूँ
किसी पेड़ के बारे में
इससे अच्छा कोई और तरीका नहीं है मेरे पास
अपने भीतर फूटती कोंपल
और जमे हुए दरख्तों के बारे में बात करने का

मैं जब भी बात करता हूँ
हवा पानी और धूप के बारे में
इससे अच्छा कोई और तरीका नहीं हो सकता मेरे पास
अपने भींतर बहते हुए
लहू पर बात करने का

मैं जब भी बात करता हूँ
हमेशा अपने और
अपने शहर के बारे में बात करता हूँ।

5 comments:

  1. मैं जब भी बात करता हूँ
    हवा पानी और धूप के बारे में
    इससे अच्छा कोई और तरीका नहीं हो सकता मेरे पास
    अपने भींतर बहते हुए
    लहू पर बात करने का

    मैं जब भी बात करता हूँ
    हमेशा अपने और
    अपने शहर के बारे में बात करता हूँ।

    sashakt abhivyakti

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छे बिम्बों में कही गयी कविता है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. aap ki kavita padh ke bahut achchha laga .kitne sundr tarike se aap ne kahi baat
    bahut bahut badhai
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही प्यारी रचना है...सच ही तो है हम जब भी बात करते हैं तो स्व्यं को ध्यान में रख कर ही..कवि ही इस सूक्ष्म बातों की कल्पना कर सक्ता है..बहुत-बहुत बधाई!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget