जहन्नुम और मायका


सबसे खतरनाक साँप



मैं संभाल लूंगी



जीने दो..

शुभकामनायें..


--------------
नाम: सुरेश शर्मा (कार्टूनिस्ट )
आयु: ४७ वर्ष
पेशा: स्वतंत्र कार्टूनिस्ट
अन्य जानकारियां कार्य अनुभव २५ वर्षों का ! अबतक १५००० हजार से भी अधिक कार्टून प्रकाशित!
कुछ प्रमुख पत्र-पत्रिकाएं जहाँ कार्टून प्रकाशित हुए या हो रहे हैं:
दैनिक हिंदुस्तान, प्रभात खबर, रांची एक्सप्रेस, सन्मार्ग, अपनी रांची, देशप्राण, सरिता, मेरी सहेली, वामा, गृह सहेली, बिंदिया, प्रथम प्रवक्ता, नूतन कहानियाँ, सच्ची कहानियां, सरस सलिल, दी पब्लिकअजेंडा, राज माया, संपादक, नंदन, बाल भारती, बाल हंस, बाल भाष्कर, दीवाना तेज साप्ताहिक, लोटपोट, मधुमुस्कान, आनंद डाइजेस्ट, मेला, माधुरी, आदि.....
ब्लोग्स- http://sureshcartoonist.blogspot.com. www.sahityashilpi.com

11 comments:

  1. नये साल पर एसी विषमतायें न रहें साथ ही आप की व्यंग्य क्षमता और बढे। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. Suresh ji manhgai ke daur me kuch aisa hi hone wala hai sab naye saal me mayake hi jayenge..

    badhiya kartoon...badhai aur naye saal ki badhai!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छे कार्टून, शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मँहगाई पर आपके अब तक सभी कार्टून धमाकेदार हैं। आपको नव वर्ष की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  5. शानदार...


    --


    वो खामोश चट्टान

    याद है तुम्हें...

    जिसके सामने हमने

    न जाने कितने वादे किये थे...

    उसके दिल में..

    आज हजारों कहानियाँ बंद हैं..

    हमारे प्यार की.

    हमारे प्यार का

    एक ऐसा गवाह

    जो टस से मस नहीं होता...

    कितनी धीर और गंभीर है

    वो खामोश चट्टान.


    -समीर लाल ’समीर’

    उत्तर देंहटाएं
  6. बच्चा सुरेश, कार्टून के माध्यम से अच्छा काम कर रहे हो,
    लगे रहो, लंगोटा नंद का शुभ आशीष !

    उत्तर देंहटाएं
  7. सभी प्रसंशकों मित्रों का आभार ! आपसे काफी लम्बे अंतराल के बाद
    संपर्क कर पाया हूँ, आपका प्यार पूर्ववत मिला, फिर से आभार ! बाबा
    लंगोटा नंदजी का आशीष पाकर धन्य हुआ !

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget