हर शाम सूरज ढलने के बाद
मैं तुम्हारा इंतजार करता हूं...

अरब सागर की गीली हवा
अपने संग न जाने क्या-क्या लेकर आती हैं
अपनी छुअन में तुम्हारा सुकूनदेय एहसास भी
गीले-नमकीन दुपट्टे की तरह

और सितंबर के दिनों में मेरे ऊपर खूब बारिश होती है
मैं सारी शाम भींगता रहता हूं समंदर किनारे।

बिन बताए रात उतरती हैं मुम्बई में
ऊंची इमारतों से लेकर
झुग्गियों की सीलन भरी गलियों में
पर मैं उसे हर बार
तुम्हारी गीली खुशबू से पहचान लेता हूं।

एक बात बताऊं?
घर लौटने के बाद
हर रात मैं एक सपना देखता हूं
मेरे सिरहाने हड्डियों वाला
एक थका हुआ बूढ़ा आता है
वह बहुत कुछ कहना चाहता है
पर उसकी बुदबुदाहटों में
मैं केवल दो शब्द ही समझ पाता हूं
- ‘प्रेम..शांति’...‘प्रेम और शांति’

इसके बाद मैं और तुम
साबरमती नदी के किनारे
टहलने निकल पड़ते हैं
रात की गहरी खामोशी में
हवाओं की ठंडी सिसकियों के बीच
हम नदी की रेत पर चलते चले जाते हैं
मैं तुमसे पूछ्ता हूं ‘कहां जा रहे हैं हम?’
- ‘प्रेम और शांति के खोज में’
हमारे कदमों की आहट से डर कर
रात के पक्षी किनारे से उड़कर
नदी के पानी में जा बैठते हैं
हम एक-दूसरे का हाथ पकड़कर
चलते चले जाते हैं
बिना रुके बहुत दूर तक

फिर आसमान के एक सिरे पर
सिंदूरी रंग फैलता है
तुम्हारा हाथ मुझसे छूटने लगता है
अगली रात आने का वादा कर
तुम वापस लौट जाती हो
साबरमती के किनारे मैं ठिठका सा खड़ा
तुम्हें जाता हुआ देखता रहता हूं...

मेरे सपने टूट जाते हैं।

मुम्बई की तेज रफ्तार जिंदगी के बीच
मुझे बार-बार याद आता है
प्रेम और शांति की हमारी वह पागल खोज
साबरमती का वह ठंडा किनारा!!!

मुम्बई के समुद्र तट पर मुझे
मुझे हर शाम तुम्हारा इंतजार रहता है।
------------

सुमित सिंह, मुम्बई

जन्म: 16.12.1980, काठमांडू, (नेपाल)
संप्रति: स्वतंत्र पत्रकारिता, अनुवाद कार्य तथा पेंटिंग रचना
ब्लॉग: http://www.apnaapnaasman.blogspot.com/

7 comments:

  1. वाह ! एक नव रचना है | जो एक विशेष स्थान और वातावरण को ध्यान में रख रची गयी लगती है |
    सुन्दर भाव |
    बधाई |


    अवनीश तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रभावित करने वाली कविता

    उत्तर देंहटाएं
  3. भावनाओं के ओतप्रोत बढ़िया गीत...बधाई सुमित जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहद भावपूर्ण रचना।

    -धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. झुग्गियों की सीलन भरी गलियों में
    पर मैं उसे हर बार
    तुम्हारी गीली खुशबू से पहचान लेता हूं।
    मुंबई की भागदौड भरी जिंदगी में प्यार के लिए वक्त निकालना भी कितना मुश्किल है...ऐसे माहौल में इतनी प्यारी कविता को निभाना..वाह! बहुत सुंदर कविता..सुमीत जी बधाई!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget