रचनाकार परिचय:-
9 अप्रैल, 1956 को जन्मे डॉ. वेद 'व्यथित' (डॉ. वेदप्रकाश शर्मा) हिन्दी में एम.ए., पी.एच.डी. हैं और वर्तमान में फरीदाबाद में अवस्थित हैं। आप अनेक कवि-सम्मेलनों में काव्य-पाठ कर चुके हैं जिनमें हिन्दी-जापानी कवि सम्मेलन भी शामिल है। कई पुस्तकें प्रकाशित करा चुके डॉ. वेद 'व्यथित' अनेक साहित्यिक संस्थाओं से भी जुड़े हुए हैं।
ऐसी जाने कितनी कन्या रोज बलि चढ़ जाती हैं
ये तो एक उदाहरण ही है कहाँ जबां खुल पातीहै
यदि जबां ही खुल जाये तो खूब देख लो क्या होगा
राजनीति के इन चहरों को शर्म यहां कब आती है

कानूनों के दाव पेंच में जनता ही पिस जाती है
जिस पर जितनी बड़ी सिफारिश उतनी ही चल जाती है
दाव यदि लग जाये तो फिर बाल नही बांका होगा
ये बेचारी भूखी नंगी जनता ही पिस जाती है।

राजनीति के चेहरे कितने हैं वीभत्स घने होते
क्या कर सकते हो उन का वे सब कुछ से उपर होते
कुछ भी कर लो फर्क नही है असर नही पड़ता इन पर
चिकने घड़े तो हैं ही क्या हैं ये उन से ज्यादा होते?

7 comments:

  1. आज की सच्‍चाई को उकेरा है डॉ साहब ने .. सचमुच समाज में कन्‍याओं की स्थिति अच्‍छी नहीं !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. कविता रुचिका मामले को केन्द्र में रख कर लिखी गयी लगती है। प्रभावी सामयिक कविता है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ikkisvin sadi ka bharat aur yah samajik darshan bahut badhiya kavita samajikata par prhaar karati ek bhavpurn kavita

    उत्तर देंहटाएं
  4. सामाजिक एवं राजनैतिक परिस्थितियों पर प्रश्न चिन्ह् लगाती हुई एक सश्क्त रचना । धन्यवाद ।

    शशि पाधा

    उत्तर देंहटाएं
  5. pathkon ne mejhe sneh diya hridya se abhar vykt krta hoon swikar kr len
    dr. ved vyathit
    dr.vedvyathit@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. सही कहा आपने आज कथित राजनेताओं का ही वरद ह्स्त है हमारे कथित रक्षकों के सिर पर,तभी तो वे भक्षक बने हैं..ऊंचे ओह्दे पर बैठे ये शातिर घर की बेटियों पर ही आंख गढाये बैठे हैं। राठौड जैसे लोगों को छोड देना लोकतंत्र की तौहीन होगी। ऐसे लोगों को ऐसी कठोर से कठोर सजा दी जानी चाहिए जो दूसरे लोगों के लिए सबक बने। डा. वेद जी बहुत-बहुत बधाई ऐसी प्रहारात्मक रचना के! लिए

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget