Ghazal by Neeraj Goswami

Ghazal by Neeraj Goswamiरचनाकार परिचय:
नीरज गोस्वामी का जन्म 14 अगस्त 1950 को जम्मू में हुआ। इंजिनियरिंग स्नातक नीरज जी लगभग 30 वर्षों के कार्यानुभव के साथ वर्तमान में भूषण स्टील मुम्बई में असिसटैंट वाइस प्रेसिडेंट के पद पर कार्यरत हैं।

बचपन से ही साहित्य पठन में इनकी रुचि रही है। अनेक जालघरों में इनकी रचनायें प्रकाशित हो चुकी हैं। इसके अतिरिक्त इन्होंने अनेक नाटकों में काम किया और पुरुस्कार जीते हैं।
मान लूँ मैं ये करिश्मा प्यार का कैसे नहीं
वो सुनाई दे रहा सब जो कहा तुमने नहीं

इश्क का मैं ये सलीका जानता सब से सही
जान दे दो इस तरह की हो कहीं चरचे नहीं

तल्ख़ बातों को जुबाँ से दूर रखना सीखिए
घाव कर जाती हैं गहरे जो कभी भरते नहीं

अब्र लेकर घूमता है ढेर-सा पानी मगर
फ़ायदा कोई कहाँ गर प्यास पे बरसे नहीं

छोड़ देते मुस्कुरा कर भीड़ के संग दौड़ना
लोग ऐसे ज़िंदगी में हाथ फिर मलते नहीं

खुशबुएँ बाहर से 'नीरज' लौट वापस जाएँगी
घर के दरवाज़े अगर तुमने खुले रक्खे नहीं

8 comments:

  1. मान लूँ मैं ये करिश्मा प्यार का कैसे नहीं
    वो सुनाई दे रहा सब जो कहा तुमने नहीं

    waah...........jadoo bhar diya hai.
    इश्क का मैं ये सलीका जानता सब से सही
    जान दे दो इस तरह की हो कहीं चरचे नहीं
    ishq ka ye andaz to kabil-e-tarif hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. तल्ख़ बातों को जुबाँ से दूर रखना सीखिए
    घाव कर जाती हैं गहरे जो कभी भरते नहीं
    बहुत सुन्दर ग़ज़ल है....अहसासों से लबरेज़

    उत्तर देंहटाएं
  3. मान लूँ मैं ये करिश्मा प्यार का कैसे नहीं
    वो सुनाई दे रहा सब जो कहा तुमने नहीं
    -- बहुत खूब.

    इश्क का मैं ये सलीका जानता सब से सही
    जान दे दो इस तरह की हो कहीं चरचे नहीं
    -- बहुत खूब आगे बयाँ करने की जरुरत नहीं.

    तल्ख़ बातों को जुबाँ से दूर रखना सीखिए
    घाव कर जाती हैं गहरे जो कभी भरते नहीं
    -- बिलकुल सच.

    अब्र लेकर घूमता है ढेर-सा पानी मगर
    फ़ायदा कोई कहाँ गर प्यास पे बरसे नहीं
    -- वाह क्या तस्वीर है.

    छोड़ देते मुस्कुरा कर भीड़ के संग दौड़ना
    लोग ऐसे ज़िंदगी में हाथ फिर मलते नहीं
    -- क्या फरमाया है सर जी.

    खुशबुएँ बाहर से 'नीरज' लौट वापस जाएँगी
    घर के दरवाज़े अगर तुमने खुले रक्खे नहीं
    -- लाजवाब ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  4. हर शेर पेर वाह वाह वाह ....

    इश्क का मैं ये सलीका जानता सब से सही
    जान दे दो इस तरह की हो कहीं चरचे नहीं

    simply genius.

    उत्तर देंहटाएं
  5. खूबसूरत ख्यालात का मुजाहरा करती एक दिलकश गजल

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget