Photobucket

चाहे कोई साथ निभाए
आए कोई या मत आए।
दीप जलाकर बैठे कोई,
या फिर कोई उसे बुझाए।
किसकी राह निहारे सूरज,
वह हर पल चलता रहता है
जीवन तो चलता रहता है।
रचनाकार परिचय:-

गौरव शुक्ला कुछ समय पूर्व तक कवि और पाठक दोनों ही के रूप में अंतर्जाल पर बहुत सक्रिय रहे हैं।

अपनी सुंदर और भावपूर्ण कविताओं, गीतों और गज़लों के लिये पहचाने जाने वाले गौरव को अपने कुछ व्यक्तिगत कारणों से अंतर्जाल से दूर रहना पड़ा। साहित्य शिल्पी के माध्यम से एक बार फिर आपकी रचनायें अंतर्जाल पर आ रही हैं।

आँख लगे तो नींद भी आए,
नींद लगे तो स्वप्न सताए।
एक परी आए धीरे से,
हाथ पकड़ ले और उठाये।
भोर हुए तक साथ हमारे,
दीपक भी जलता रहता है।
जीवन तो चलता रहता है।

एक पखेरू एक ठिकाना,
और वहीं तक आना-जाना।
शीतल-शीतल छांव घनेरी,
सौंप दिया है आबो-दाना।
भीतर जैसे पंख पसारे,
पंछी है पलता रहता है।
जीवन तो चलता रहता है।

धड़कन थोड़ी साँस जरा सी
थोड़ी खुशियाँ और उदासी,
अँखियाँ फिर भी प्यासी-प्यासी।
बेदर्दी है समय निगोड़ा
यह सबको छलता रहता है।
जीवन तो चलता रहता है।

10 comments:

  1. चाहे कोई साथ निभाए
    आए कोई या मत आए।
    दीप जलाकर बैठे कोई,
    या फिर कोई उसे बुझाए।
    किसकी राह निहारे सूरज,
    वह हर पल चलता रहता है
    जीवन तो चलता रहता है।


    -- बहुत खूब


    अवनीश तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  2. sach kaha hai....जीवन तो चलता रहता है.....Lajawaab abhivyakti

    उत्तर देंहटाएं
  3. धड़कन थोड़ी साँस जरा सी
    थोड़ी खुशियाँ और उदासी,
    अँखियाँ फिर भी प्यासी-प्यासी।
    बेदर्दी है समय निगोड़ा
    यह सबको छलता रहता है।
    जीवन तो चलता रहता है।

    बहुत खूब गौरव जी, बेमिसाल रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  4. sunder abhivyakti
    sur me saje to kya hi baat ho
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर और मर्म स्पर्शी विचारों से ओतप्रोत है यह रचना... गौरव जी बहुत दिनों बाद आपकी रचना पढी...कैसे हैं आप ? कोई फ़ोन नंबर जिस पर आप से सम्पर्क हो सके.. जो नंबर मेरे पास है वह लगता नहीं है

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक पखेरू एक ठिकाना,
    और वहीं तक आना-जाना।
    शीतल-शीतल छांव घनेरी,
    सौंप दिया है आबो-दाना।
    भीतर जैसे पंख पसारे,
    पंछी है पलता रहता है।
    जीवन तो चलता रहता है।
    गौरव शुक्ला जी को
    भावपूर्ण और इतनी सुंदर कविता के लिए बधाई!
    सुधीर सक्सेना 'सुधि' जयपुर

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक पखेरू एक ठिकाना,
    और वहीं तक आना-जाना।
    शीतल-शीतल छांव घनेरी,
    सौंप दिया है आबो-दाना।
    भीतर जैसे पंख पसारे,
    पंछी है पलता रहता है।
    जीवन तो चलता रहता है।
    ....Bahut sundar bhavabhivyakti..badhai !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक पखेरू एक ठिकाना,
    और वहीं तक आना-जाना।
    शीतल-शीतल छांव घनेरी,
    सौंप दिया है आबो-दाना।
    भीतर जैसे पंख पसारे,
    पंछी है पलता रहता है।
    जीवन तो चलता रहता है।
    भावपुर्ण अच्छी कविता...

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget