Photobucket
धूप से बरसा था यौवन
खिल उठा धरती का मन
साहित्य शिल्पीरचनाकार परिचय:-
१५ जुलाई १९८४ को फर्रुखाबाद में जन्मे प्रवीण कुमार शुक्ल रसायन विज्ञानं में स्नातक हैं और फिलहाल बवाना में नोकिया सेल्लुलर में बतौर ऍम.आई.एस. कार्यरत हैं।

कवितायें लिखने का शौक बचपन से है। कुछ ऐसा देख कर या सुन कर या महसूस कर जिससे हृदय की भावनाएं उद्वेलित होने लगें तो उन्हें शब्द देने का प्रयास करते रहते हैं।

घास की नोकों से हंसती
चुलबुली झोको से हंसती
प्यार ले ले के बरसती
प्यार दे दे के बरसती
वो चंचली बाला

हर अंग था उसका पुलकित
हर ढंग था उसका हर्षित
यौवन के दहलीज पे
रखती कदम वो चल रही थी
हर मोड़ पर गिरती फिर
गिर कर सभल रही थी

सौन्दर्य उसका गिर रहा था
वस्त्र की सिलवटो से
उठ रही थी मंद गंधे
जुल्फ की लटो से
विचारशील सी वो
मुग्ध चल रही थी
हर घडी घमंड से
उछल रही थी

साँस उसकी तेज थी
और हौसले बढे हुए
कर रहे थे स्वागत
लोग सब खड़े हुए
वो मुस्करा रही थी
गा रही थी
गीत ही गाये जा रही थी

कुछ चमक थी कुछ दमक थी
पहन रखा था जी उसने वसन
धूप से वर्षा था यौवन
खिल उठा धरती का मन

12 comments:

  1. श्रंगार और प्रकृति एक साथ। बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी कविता।

    अनुज कुमार सिन्हा

    भागलपुर

    उत्तर देंहटाएं
  3. वर्तनी की अशुद्धियाँ हैं। कृपया सुधार कर प्रस्तुत करें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रकृति और

    तनकृति का

    मनभावन

    चित्रण।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सही समय पर सही चीज़ ही याद आती है

    सुन्दर कविता

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर कविता है...विशेष कर ए पंक्तियाँ..

    कुछ चमक थी कुछ दमक थी
    पहन रखा था जी उसने वसन
    धूप से वर्षा था यौवन
    खिल उठा धरती का मन

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रवीण सब से पहले तो तुम्हें जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई और ढेरों आशीर्वाद कविता मे प्रकृति और शिंगार का संयोजन बहुत सुन्दरता से किया है बहुत बडिया लिखते हो बहुत आगे जाओगे आसमान छूने का जज़्वा दिल मे ले कर चलो भगवान तुम पर बहुत कृपालु हैं शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget