सीमा सचदेव बच्चों के बीच एक चर्चित नाम है। बाल साहित्य समर्पित विधा है, इसके लिये बच्चों के मन के भीतर उतरना होता है, सीमा जी को यह महारत है। साहित्य शिल्पी एक नये स्थायी स्तंभ की घोषणा करते हुए हर्षित हैं, सीमा जी बच्चों के लिये ले कर प्रस्तुत हैं हितोपदेश की कहानियों का काव्यानुवाद। - साहित्य शिल्पी।
**********
एक कौआ और एक थी बुलबुल
घर था उनका प्यारा जंगल
बुलबुल बड़ी नरम दिल वाली
बैठी रहती वृक्ष की डाली



रचनाकार परिचय:-

2 अक्टूबर, 1974 को पंजाब के अबोहर मे जन्मी सीमा सचदेव पेशे से हिन्दी-अध्यापिका हैं। इनकी कई रचनाये जैसे- विभिन्न अंतर्जाल पत्रिकाओ मे प्रकाशित हैं। "मेरी आवाज़ भाग-१,२", "मानस की पीड़ा",,"सन्जीवनी", "आओ सुनाऊं एक कहानी", "नन्ही कलियाँ", "आओ गाएं" नामक रचना-संकलन ई-पुस्तक के रूप में प्रकाशित हैं।

बड़ा चतुर था पर वह कौआ
इधर-उधर उड़ता था भैया
इक दिन एक शिकारी आया
देखी पेड़ की गहरी छाया

गया था गर्मी में थक-हार
आया मन में एक विचार
क्यों न थोड़ा करे आराम
फिर जाएगा अपने काम

सोच के वह छाया में लेटा
और निद्रा का आ गया झूठा
आ गई उसको निद्रा गहरी
पर छाया न वहाँ पे ठहरी

धूप लगी आने वहाँ पर
पड़ने लगी थी उसके मुख पर
देख रही थी यह सब बुलबुल
पिघल गया बुलबुल का दिल

उसने अपने पँख फैलाए
ताकि वहाँ छाया हो जाए
पर कौआ था बड़ा चालाक
उड़ गया वह वहाँ से तपाक

हो गई जब सब दूर थकावट
ली शिकारी ने तब करवट
जब उसकी आँखें गईं खुल
देखा टहनी पर थी बुलबुल

झट से उठाया तीर-कमान
ले ली उस बुलबुल की जान
गिरी वो अब धरती पर आकर
बैठी थी जो पँख फैलाकर

बच गया था कौआ चलाक
बच्चो, होना नहीं अवाक
दुष्टों पे एतबार न करना
न ही इतने भोले बनना

करनी दुष्ट के संग में भलाई
समझो नई मुसीबत आई


*************************

10 comments:

  1. हितोपदेश का एसा मोहक प्रस्तुतिकरण। आपने बडा काम किया है सीमा जी। इस श्रंखला की सभी कडियाँ मैं सहेज कर रखने वाली हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. करनी दुष्ट के संग में भलाई
    समझो नई मुसीबत आई - सही शिक्षा।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बच्चो, होना नहीं अवाक
    दुष्टों पे एतबार न करना
    न ही इतने भोले बनना

    करनी दुष्ट के संग में भलाई
    समझो नई मुसीबत आई

    बच्चों की भाषा और रोचक कहानी। मजा आ गया।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह वाह सही कहा। दुष्टों की मदद करना मुसीबत मोल लेना ही है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह अतिसुन्दर शिक्षाप्रद काव्यात्मक प्रस्तुति....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बच्चो की बढ्या महफिल जमाई है सीमा जी नें। अच्छी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह....बहुत ही बढिया...क्या कहने....आनंद आ गया...


    तालियाँ...तालियाँ....तालियाँ


    ऐसे और भी प्रयास किए जाने चाहिए ...


    सीमा सचदेव जी को उनके प्रयास के लिए हमारी तरफ से ग्रैंड सैल्यूट ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. सीमा सचदेव जी का यह प्रयास सराहनीय है - बच्चोँ के लिये हिन्दी भाषा मेँ और ज्यादा साहित्य रचा जाना आवश्यक है -
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  9. kya baat hai
    करनी दुष्ट के संग में भलाई
    समझो नई मुसीबत आई

    aap bhaut achha kaam kar rahi hai

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget