दीवालीआयेगी
ये रातअंधेरी भी
रोशन हो जायेगी
रचनाकार परिचय:-
9 अप्रैल, 1956 को जन्मे डॉ. वेद 'व्यथित' (डॉ. वेदप्रकाश शर्मा) हिन्दी में एम.ए., पी.एच.डी. हैं और वर्तमान में फरीदाबाद में अवस्थित हैं। आप अनेक कवि-सम्मेलनों में काव्य-पाठ कर चुके हैं जिनमें हिन्दी-जापानी कवि सम्मेलन भी शामिल है। कई पुस्तकें प्रकाशित करा चुके डॉ. वेद 'व्यथित' अनेक साहित्यिक संस्थाओं से भी जुड़े हुए हैं।

दीवाली आयेगी
खुशियोंके उजालों से
मनको भर जायेगी

मन में दीवाली है
दिल दीप जलाया है
उस की उजियारी है

दिल ईंधन बनता है
तिल तिल जलने पर वो
दीपक सा जलता है

मन दीप सजाया है
दीवालीआई है
खुशियों का उजाला है

दीपों का उत्सव है
तुम्हें खुशियां खूब मिलें
मेरा ऐसा मन है

मन दीपक हो जाये
अंधियारे दूर रहें
उजियारा हो जाये

7 comments:

  1. मन दीपक हो जाये
    अंधियारे दूर रहें
    उजियारा हो जाये

    छोटी छोटी सुन्दर त्रिपदियाँ हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. हिन्दी-हिन्दु-हिन्दुस्तान18 अक्तूबर 2009 को 8:32 pm

    सरल सुन्दर कविता। दीपावली की शुभकामना।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मन में दीवाली है
    दिल दीप जलाया है
    उस की उजियारी है
    प्रभावी पंक्तियाँ हैं। दीपावली की शुभकामना।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मोहक त्रिपदिया हैं पर्व को सही अर्थों में परिभाषित करती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मन में दीवाली है
    दिल दीप जलाया है
    उस की उजियारी है

    दिल ईंधन बनता है
    तिल तिल जलने पर वो
    दीपक सा जलता है

    मन दीपक हो जाये
    अंधियारे दूर रहें
    उजियारा हो जाये

    प्रभावित करती हैं रचनायें

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुगठित व प्रभावी त्रिपदियाँ, दीपावली को चरितार्थ करती हुई, मंगलकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. त्रिपदियों का गुलदस्ता है।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget