रचनाकार परिचय:-

बृजेश शर्मा का जन्म उत्तर प्रदेश के एक छोटे से शहर फिरोजाबाद में १० नवम्बर १९८२ को हुआ। १४ साल तक का जीवन वही गुजारा और ९ वी तक की पढ़ाई भी वही हुई, फिर वे दिल्ली आ गये , और आज काल एक इंटरनेशनल बी पि ऊ में एकज्युकेटिव के पद पर हैं..।
मुझे शिकायत है वक्त से
क्योंकि, ये गुजर जाता है
नही करता इन्तेजार मेरे बढ़ने का
नही थामता हाथ साथ ले कर चलने के लिए!
नही विचारता शुभ अशुभ के बारे मैं-
नही देखता वक्त-बेवक्त!
बस चलता है निरंतर
निरंतरता- शायद यही इसकी पहचान है!
मुझे शिकायत है वक्त से
क्योंकि यह भुला देता है अतीत को
धूमिल कर देता है यादो को
और चढा देता है परत पुराने हरे जख्मो पर
जखम जो मैंने दिए थे स्वयं को
रखे थे हरे ख़ुद कुरेद कुरेद कर!
पर वक्त भरता जा रहा है इनको
मेरे ना चाहते हुए भी!
मुझे शिकायत है वक्त से!

8 comments:

  1. वक़्त की इस जोर ज़बरदस्ती पर हमारा ध्यान वाकई कभी नहीं जाता ... वक़्त ही नहीं मिलता .. :-) ध्यान इस और खींचने का शुक्रिया भाई .. खुबसूरत कविता ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. .....
    जखम जो मैंने दिए थे स्वयं को
    रखे थे हरे ख़ुद कुरेद कुरेद कर!
    पर वक्त भरता जा रहा है इनको
    मेरे ना चाहते हुए भी!...

    बहुत ही सकारात्मक भाव ..... बढ़िया रचना शुभकामना बृजेश जी

    उत्तर देंहटाएं
  3. वक्त सुनता कहाँ है....भाई मेरे....

    उत्तर देंहटाएं
  4. जखम जो मैंने दिए थे स्वयं को
    रखे थे हरे ख़ुद कुरेद कुरेद कर!
    पर वक्त भरता जा रहा है इनको
    मेरे ना चाहते हुए भी!
    मुझे शिकायत है वक्त से!

    अच्छी रचना।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget