साहित्य शिल्पीरचनाकार परिचय:- किरण सिन्धु, उत्तर प्रदेश की मूल निवासी हैं। आपकी शिक्षा झारखण्ड में तथा विवाह बिहार में हुआ। वर्तमान में आप मुंबई में अवस्थित हैं। आपको परिवार और परिवेश में बचपन से ही साहित्य प्रेम का भरपूर अवसर प्राप्त हुआ। श्रधेय गुरुजनों की कृपा से जो भी ज्ञानार्जन हुआ उसके सहारे अध्यापन के क्षेत्र में २५ वर्षों तक सुदृढ़ रूप से खड़ी रही। हिंदी भाषा और साहित्य के प्रति किशोरावस्था से ही प्रेम रहा है.
दुआओं का अपना ही वजूद होता है:
दुआएँ होठों से नहीं आँखों से बोलती हैं.
कभी किसी भूखे बच्चे को,
पेट भर खाना खिला कर तो देखो,
कभी किसी बूढे - बेसहारे को,
कुछ कदम साथ चल कर,
रास्ता पार करा कर तो देखो,
कभी किसी अबला की लुटती अस्मत को,
अपनी शराफत और भरोसे की चादर,
ओढ़ा कर तो देखो.
इनकी आँखों में इक नमी सी तैर जाती है,
एक ऐसा नूर जो दिल की गहराइयों में समा कर,
अन्दर तक उजाला भर दे.
एक ऐसे रिश्ते की बुनियाद,
जो सभी रिश्तों से ऊपर है.
दुआओं से इंसान को रूहानी ताकत मिलती है,
ये वो नेमत है जो किसी बाजार में नहीं बिकती है.

8 comments:

  1. दुआओं से इंसान को रूहानी ताकत मिलती है,
    ये वो नेमत है जो किसी बाजार में नहीं बिकती है.
    सही कहा किरण जी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. संवेदनाओं से भरी बहुत अच्छी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दुआओं में बहुत असर होता है, बहुत सुन्दर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक ऐसा नूर जो दिल की गहराइयों में समा कर,
    अन्दर तक उजाला भर दे.
    एक ऐसे रिश्ते की बुनियाद,
    जो सभी रिश्तों से ऊपर है.
    दुआओं से इंसान को रूहानी ताकत मिलती है,
    ये वो नेमत है जो किसी बाजार में नहीं बिकती है.
    बहुत अच्छी कविता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. संवेदनशील लेखन.. सचमुच दिल से निकली दुआओं में बहुत असर होता है... जितनी बटोरी जा सकें बटोर लेनी चाहिये.

    उत्तर देंहटाएं
  6. जहाँ काम न करे दवा , काम करे दुआ
    फुँफा करे जब धुनाई ,छुडाये तब बुआ

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अछि कविता के लिए बधाई .
    निशा

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget