ये कैसी अनजानी सी आहट आई है;
मेरे आसपास.....
ये कौन नितांत अजनबी आया है मेरे द्वारे...
मुझसे मिलने,
मेरे जीवन की , इस सूनी संध्या में;
ये कौन आया है...

रचनाकार परिचय:-

विजय कुमार सपत्ति के लिये कविता उनका प्रेम है। विजय अंतर्जाल पर सक्रिय हैं तथा हिन्दी को नेट पर स्थापित करने के अभियान में सक्रिय हैं। आप वर्तमान में हैदराबाद में अवस्थित हैं व एक कंपनी में वरिष्ठ महाप्रबंधक के पद पर कार्य कर रहे हैं।

अरे ..तुम हो मित्र;
मैं तो तुम्हे भूल ही गया था,
जीवन की आपाधापी में!!!

आओ प्रिय,
आओ!!!
मेरे ह्रदय के द्वार पधारो,
मेरी मृत्यु...
आओ स्वागत है तुम्हारा !!!

लेकिन ;
मैं तुम्हे बताना चाहूँगा कि,
मैंने कभी प्रतीक्षा नहीं की तुम्हारी;
न ही कभी तुम्हे देखना चाहा है!

लेकिन सच तो ये है कि,
तुम्हारे आलिंगन से मधुर कुछ नहीं
तुम्हारे आगोश के जेरे-साया ही;
ये ज़िन्दगी तमाम होती है.....

मैं तुम्हारा शुक्रगुजार हूँ,
कि;
तुम मुझे बंधन मुक्त करने चले आये;

यहाँ...कौन अपना,कौन पराया,
इन्ही सच्चे-झूठे रिश्तो,
की भीड़ में,
मैं हमेशा अपनी परछाई खोजता था!

साँसे कब जीवन निभाने में बीत गयी,
पता ही न चला;
अब तुम सामने हो;
तो लगता है कि,
मैंने तो जीवन को जाना ही नहीं…..

पर हाँ , मैं शायद खुश हूँ,
कि; मैंने अपने जीवन में सबको स्थान दिया!
सारे नाते ,रिश्ते, दोस्ती, प्रेम..
सब कुछ निभाया मैंने..
यहाँ तक कि;
कभी कभी ईश्वर को भी पूजा मैंने;
पर तुम ही बताओ मित्र,
क्या उन सबने भी मुझे स्थान दिया है!!!

पर,
अब सब कुछ भूल जाओ प्रिये,
आओ मुझे गले लगाओ;
मैं शांत होना चाहता हूँ!
ज़िन्दगी ने थका दिया है मुझे;
तुम्हारी गोद में अंतिम विश्राम तो कर लूं!

तुम तो सब से ही प्रेम करते हो,
मुझसे भी कर लो;
हाँ……मेरी मृत्यु
मेरा आलिंगन कर लो!!!

बस एक बार तुझसे मिल जाऊं ...
फिर मैं भी इतिहास के पन्नो में;
नाम और तारीख बन जाऊँगा!!
फिर
ज़माना, अक्सर कहा करेंगा कि
वो भला आदमी था,
पर उसे जीना नहीं आया..... !!!

कितने ही स्वपन अधूरे से रह गए है;
कितने ही शब्दों को,
मैंने कविता का रूप नहीं दिया है;
कितने ही चित्रों में,
मैंने रंग भरे ही नहीं;
कितने ही दृश्य है,
जिन्हें मैंने देखा ही नहीं;
सच तो ये है कि,
अब लग रहा है कि मैंने जीवन जिया ही नहीं

पर स्वप्न कभी भी तो पूरे नहीं हो पाते है
हाँ एक स्वपन,
जो मैंने ज़िन्दगी भर जिया है;
इंसानियत का ख्वाब;
उसे मैं छोडे जा रहा हूँ...

मैं अपना वो स्वप्न इस धरा को देता हूँ......

8 comments:

  1. भाव भरी कविता... जीते जी मौत को याद रखना कहां आसान है.. हालांकि हर पल हम कहीं न कहीं उसकी आहट सुनते रहते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. ACHCHHEE KAVITA KE LIYE SHREE
    VIJAY KUMAR SAPATTI KO BADHAAEE.

    उत्तर देंहटाएं
  3. पर स्वप्न कभी भी तो पूरे नहीं हो पाते है
    हाँ एक स्वपन,
    जो मैंने ज़िन्दगी भर जिया है;
    इंसानियत का ख्वाब;
    उसे मैं छोडे जा रहा हूँ...
    मैं अपना वो स्वप्न इस धरा को देता हूँ......

    बहुत अच्छे सपत्ति जी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मृत्यु सत्य है लेकिन जीवन सुन्दर। मुझे लगता है कि जब तक जीवन है उसकी सुन्दरता से उदासीन नहीं होना चाहिये।

    उत्तर देंहटाएं
  5. कविता मे भाव इतने गम्भीर है कि कविता पढ्ते पढ्ते बार बार आप का न रहना दुखी कर रहा था फिर मन को समझाता कि ये तो उनकी कविता के भाव है मन से कविता में और कविताओं के मन से भावो के निकलने का शायद यही फर्क हो मुझ अज्ञानी को क्या मालूम इस सनातन सत्य पर कुछ शोध चल रहा था जिसमें आपने गति दी है धन्यवाद स्वीकारें !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बस एक बार तुझसे मिल जाऊं ...
    फिर मैं भी इतिहास के पन्नो में;
    नाम और तारीख बन जाऊँगा!!
    फिर
    ज़माना, अक्सर कहा करेंगा कि
    वो भला आदमी था,
    पर उसे जीना नहीं आया..... !!!
    -- इन्सान की मोह की कड़ी अंत तक नहीं टूटती की उसे मरने के बाद भी याद किया जाए..बहुत सादगी से आपने इन भावो को सुंदर शब्दों में पिरो दिया.

    हाँ एक स्वपन,
    जो मैंने ज़िन्दगी भर जिया है;
    इंसानियत का ख्वाब;
    उसे मैं छोडे जा रहा हूँ...
    मैं अपना वो स्वप्न इस धरा को देता हूँ......
    अंतिम पंक्तिया मानो मृत्यु को भी शर्मिंदा कर गयी. बहुत सुंदर रचना क लिए बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget