जी.बी.एन विद्यालय 21-डी, फरीदाबाद के सौजन्य से बच्चों की मधुर आवाज़ में "अनहद गीत" नामक संग्रह के दो गीत हम साहित्य शिल्पी पर पहले प्रस्तुत कर चुके हैं। इन सभी गीतों के लिये संगीत संयोजन किया है प्रतिभावान संगीतकार रीना कपिल ने।


इसी क्रम में आज आइये सुनें "अनहद गीत" की तीसरी प्रस्तुति "धरा पर अँधेरा बहुत छा रहा है..." :




या ये प्लेयर ट्राई करें:

11 comments:

  1. अनहद गीत श्रंखला के सभी गीत अच्छे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. रीना कपिल जी एवं साहित्य शिल्पी को इस कव्वाली के लिये बधाई। बहुत प्रशंसनीय स्वर संयोजन है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. धरा पर अँधेरा तो छाया ही रहेगा। वैसे उजाले उनको नसीब हैं जो उनके हिमायती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बच्चों के मधुर सुरों में यह सुंदर प्रस्तुति सुनवाने के लिए साहित्य शिल्पी को धन्यवाद और रानी कपिल को बधाई। इन प्यारे प्यारे बच्चों को जिनकी मधुर आवाज़ अभी भी कानों में गूंज रही है, ढेर सारा प्यार। इस अगली प्रस्तुति का इंतज़ार है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. Beautiful song....I have heard this song from gayatri sanstha shantikunj people. And, still I have the cd with me. You can find many such songs on line now.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर प्रस्तुति के लिए ......
    साहित्य शिल्पी को धन्यवाद....


    और रानी कपिल को
    बधाई.....

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर प्रस्तुति .. बिल्कुल प्रोफेशनल अंदाज की कवाली है . . जिसे नन्हे मुन्नों ने बहुत ही करीने से निभाया है..

    उत्तर देंहटाएं
  8. reena ji ka pahle bhi geet suna tha , jise baccho ne gaya tha ..inke prayog bahut hi sundar hoten hai ..

    meri dili iccha hai ki [ main rajiv ji se bhi baat ki thi ] ki aap meri poem " sahid hoon main " ko compose karen ..

    aapko bahut badhai ..

    vijay
    www.poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget