मुझे शबनम के कतरे ने कहा, तुमने बुलाया है
हवा का डाकिया इस वक़्त, तेरी याद लाया है...

मुझे उस प्यार की सौं है, मुझे अंगार की सौं है
मेरे सीने में जो जल कर, मुझे ही मोम करती है
मेरा सपना, मेरी हर कल्पना, हँसती है मुझ ही पर
मेरा संकल्प घायल है, उदासी व्योम करती है
वो कितना कुछ था करने को, न कर पाया, न हो पाया
लपट है वक़्त की जिसपर, जवानी होम कर दी है

मैं आशा की किसी लौ को ही जलता देख तो पाता
तुम्हीं ने तो पलक मूंदी, हरेक दीपक बुझाया है
हवा का डाकिया इस वक़्त, तेरी याद लाया है...

वो बातें थीं, महज बातें, कि दुनिया को नया सूरज
वो हर इक आँख में चिड़िया, वो हर इक हाथ में कागज
क्षितिज दुनिया का हर कोना, जमीनों में उगा सोना
नहीं बरगद, न ही सरहद, न ये होना, न वो रोना
हमारे मन के हाथों में, लपट उँची, मशालें थीं
मगर हम मेमने थे, हम पे शेरों की दुशालें थीं

गिरे जब हम धरातल पर, जमीं में हम समाते थे
न तुम थे, पर हमारे साथ सूरज था, ये साया है..
हवा का डाकिया इस वक़्त, तेरी याद लाया है...

तुम्हीं तो थे, जिसे जज़्बों पे मेरे प्यार आता था
तुम्हीं ने तो मुझे खत लिख के जोड़ा एक नाता था
जमीन-ओ-आसमा की बात, जन्मों की कहानी थी
मेरे कदमों तले तुमको कोई दुनिया बसानी थी
मगर जब नौकरी पाने में मेरी डिगरियाँ हारीं
किसी इंजीनियर से हो गयी थी फिर तेरी यारी

सभी बातें कहानी थीं, तुम्हारी बात पानी थी
किताबों में पुरानी भी लिखा, जो सच है माया है
हवा का डाकिया इस वक़्त, तेरी याद लाया है...


मुझे आ कर मिले, आदर्श ने भोजन दिया जिसको
भजन तब है, अगर रोटी तुम्हारे पेट से बोले
जहाँ टाटा को, अंबानी को, सुनने भीड़ लगती हो
वहाँ ये डायरी ले कर कहाँ निकले कवि भोले
कोई भी साथ आ जाये, नहीं ये दौर है ऐसा
तुम्हारी चुप खरीदेगा, यहाँ बोलेगा बस पैसा

वो झूठे ख्वाब थे, कैसी नशीली थी बहुत दुनिया
तुम्हारा साथ हो तो दो जहाँ को हमने पाया है
हवा का डाकिया इस वक़्त, तेरी याद लाया है...

39 comments:

  1. बहुत सुंदर कविता। खूब खूब बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. मुझे आ कर मिले, आदर्श ने भोजन दिया जिसको
    भजन तब है, अगर रोटी तुम्हारे पेट से बोले
    जहाँ टाटा को, अंबानी को, सुनने भीड़ लगती हो
    वहाँ ये डायरी ले कर कहाँ निकले कवि भोले
    कोई भी साथ आ जाये, नहीं ये दौर है ऐसा
    तुम्हारी चुप खरीदेगा, यहाँ बोलेगा बस पैसा

    आज भी एसी धारदार कविता लिखी जाती है? जबरस्त रचना इसे कहते है जो रोंगटे रोंगटे खडे कर दे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुझे शबनम के कतरे ने कहा, तुमने बुलाया है
    हवा का डाकिया इस वक़्त, तेरी याद लाया है...
    सटीक और जोरदार रचना है . बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  4. राजीव जी इस कविता के तेवर प्रशंसनीय है। कोई भी प्रभावित हुए बिना नहीं रह सकता। एक एक पंक्ति में आंदोलन है।

    वो बातें थीं, महज बातें, कि दुनिया को नया सूरज
    वो हर इक आँख में चिड़िया, वो हर इक हाथ में कागज
    क्षितिज दुनिया का हर कोना, जमीनों में उगा सोना
    नहीं बरगद, न ही सरहद, न ये होना, न वो रोना
    हमारे मन के हाथों में, लपट उँची, मशालें थीं
    मगर हम मेमने थे, हम पे शेरों की दुशालें थीं

    उत्तर देंहटाएं
  5. यादों के बहाने व्यवस्था पर करारा प्रहार करती है कविता। कविता किसी और मूड की प्रतीत होती है और किसी अन्य चरम पर समाप्त होती है। राजीव भाई आपके भीतर के कवि की बात ही क्या।

    मुझे आ कर मिले, आदर्श ने भोजन दिया जिसको
    भजन तब है, अगर रोटी तुम्हारे पेट से बोले
    जहाँ टाटा को, अंबानी को, सुनने भीड़ लगती हो
    वहाँ ये डायरी ले कर कहाँ निकले कवि भोले

    उत्तर देंहटाएं
  6. वो बातें थीं, महज बातें, कि दुनिया को नया सूरज
    वो हर इक आँख में चिड़िया, वो हर इक हाथ में कागज
    क्षितिज दुनिया का हर कोना, जमीनों में उगा सोना
    नहीं बरगद, न ही सरहद, न ये होना, न वो रोना

    Ultimate.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  7. "कविता एक नदी की तरह होती है .. उसका प्रवाह ही उस की आत्मा है"! कल ही राजीव भाई से वार्ता के दौरान मैंने ये बात कही थी ... कहते वक्त मुझे पता नही था कि अगले दिन ही हमारे भगीरथ , गंगा ले कर प्रस्तुत हो जाएंगे ... :-)
    सब से अधिक प्रभावित करने वाली बात कविता में कई स्वरों का होना है .. कहीं "हवा क डाकिये द्वारा लाई हुई याद " में छिपी मायूसी , कहीं आर्तनाद , कहीं व्यंग्य तो कहीं आशा .. इतने स्वरों के होने के बाद भी कहीं प्रवाह में बाधा नही है और गत्यात्मकता शुरू से अंत तक बरकरार है ..
    "उदासी व्योम करती है","जवानी होम कर दी है","नहीं बरगद, न ही सरहद, न ये होना, न वो रोना" जैसी कितनी ही पंक्तियाँ हैं जो कविता ख़त्म होने के बाद भी मन में गूंजती हैं ..
    कुल मिला कर एक अगरबत्ती की मानिंद कविता जो जलने के बाद भी देर तक महकती है और कविता में व्याप्त तड़प को भूलने नही देती ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. RAJIV JEE,KYA LAJAWAAB KAVITA HAI!
    RAVAANEE HO TO AESEE HO
    AGAR KAVITA MEIN KAHNEE HO
    KAHAANEE HO TO AESEE HO
    ISEE CHHAND YAA BAHAR MEIN
    EK GAZAL BHEE HO JAAYE.MUBAARAK.

    उत्तर देंहटाएं
  9. गिरे जब हम धरातल पर, जमीं में हम समाते थे
    न तुम थे, पर हमारे साथ सूरज था, ये साया है..
    हवा का डाकिया इस वक़्त, तेरी याद लाया है.
    bahut hi sundar likha hai...

    har pankti jeevant hai.....kavita mein sabhi shbd jee uthey hon jaisey..

    - badhaayee

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी रचनाधर्मिता का कायल हूँ. कभी हमारे सामूहिक प्रयास 'युवा' को भी देखें और अपनी प्रतिक्रिया देकर हमें प्रोत्साहित करें !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. कविता बहाती है।
    कविता जगाती है।
    कविता झकझोरती है।
    कविता भीतर लग गये दीमक को खुरचती है। कविता सन्न कर देती है।

    कमाल की कविता है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहाने व्यवस्था पर करारा प्रहार करती है कविता.बहुत सुंदर कविता. बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. क्षितिज दुनिया का हर कोना, जमीनों में उगा सोना
    नहीं बरगद, न ही सरहद, न ये होना, न वो रोना
    हमारे मन के हाथों में, लपट उँची, मशालें थीं
    मगर हम मेमने थे, हम पे शेरों की दुशालें थीं
    राजीव जी बहुत शशक्त कविता है आपकी...आज के हालत पर गहरे प्रहार करती हुई...नमन आपकी लेखनी को...वाह.
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत खूबसूरती से शब्दोंको बुना है बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  15. पंकज सक्सेना14 जनवरी 2009 को 5:26 pm

    सभी बातें कहानी थीं, तुम्हारी बात पानी थी
    किताबों में पुरानी भी लिखा, जो सच है माया है
    हवा का डाकिया इस वक़्त, तेरी याद लाया है...

    बाह बंधु।

    उत्तर देंहटाएं
  16. कसमें....वादे...प्यार...वफा....

    सब बातें है....बातों को क्या?

    सुन्दर कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर रचना. बधाई राजीव जी को.

    उत्तर देंहटाएं
  18. वो झूठे ख्वाब थे, कैसी नशीली थी बहुत दुनिया
    तुम्हारा साथ हो तो दो जहाँ को हमने पाया है
    हवा का डाकिया इस वक़्त, तेरी याद लाया है...
    ......Bahut khub.

    उत्तर देंहटाएं
  19. राजीव जी

    रचना के गहन प्रवाह में कुछ पल के लिए बहा जा रहा हूँ आनंद के साथ .....बहुत दिनों बाद फिर से आपको उसी अंदाज में पढ़ना बहुत ही अच्छा लगा.
    शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं
  20. मुझे आ कर मिले, आदर्श ने भोजन दिया जिसको
    भजन तब है, अगर रोटी तुम्हारे पेट से बोले
    जहाँ टाटा को, अंबानी को, सुनने भीड़ लगती हो
    वहाँ ये डायरी ले कर कहाँ निकले कवि भोले
    कोई भी साथ आ जाये, नहीं ये दौर है ऐसा
    तुम्हारी चुप खरीदेगा, यहाँ बोलेगा बस पैसा

    वो झूठे ख्वाब थे, कैसी नशीली थी बहुत दुनिया
    तुम्हारा साथ हो तो दो जहाँ को हमने पाया है
    हवा का डाकिया इस वक़्त, तेरी याद लाया है...


    apaki lekhni ki taqat aur uski sachchayi se hamesha hi prabhavit rahi hoon

    itni sachhi kachoti hui kavita koi samvedansheel vayakti hi likh sakta hai

    उत्तर देंहटाएं
  21. गिरे जब हम धरातल पर, जमीं में हम समाते थे
    न तुम थे, पर हमारे साथ सूरज था, ये साया है..

    बहुत प्रभाशाली कविता है। भाषा का प्रवाह,
    शब्द-चयन, छंद, कल्पना - हर तरह से उच्च कोटि की रचना है।
    बहुत सुंदर! बधाई!
    .

    उत्तर देंहटाएं
  22. हमारे मन के हाथों में, लपट उँची, मशालें थीं
    मगर हम मेमने थे, हम पे शेरों की दुशालें थीं
    ye panktiyaan mujhe prabhavit kar gayee aisi kavitaaein mai baar baar padhne ki ichha rakhta hoon khas kar sahitya shilpipar

    उत्तर देंहटाएं
  23. तुम्हीं तो थे, जिसे जज़्बों पे मेरे प्यार आता था
    तुम्हीं ने तो मुझे खत लिख के जोड़ा एक नाता था
    जमीन-ओ-आसमा की बात, जन्मों की कहानी थी
    मेरे कदमों तले तुमको कोई दुनिया बसानी थी
    मगर जब नौकरी पाने में मेरी डिगरियाँ हारीं
    किसी इंजीनियर से हो गयी थी फिर तेरी यारी

    सभी बातें कहानी थीं, तुम्हारी बात पानी थी
    किताबों में पुरानी भी लिखा, जो सच है माया है
    हवा का डाकिया इस वक़्त, तेरी याद लाया है...

    waah bahut dino baad aapko padha. ati sundar

    उत्तर देंहटाएं
  24. कमाल है भाई. लाजवाब कर दिया है आप ने. मैं बस महसूस कर सकता हूँ .... कुछ कहने का सामर्थ्य नहीं ...

    उत्तर देंहटाएं
  25. यह गजल है या कविता? इसकी थीम क्या है? प्रेम-कविता है क्या? मै तो कई बार पढ़ गया पर मेरे पल्ले नहीं पड़ा। शायद इस तरह की कविता पढ़ने-करने की आदत नहीं पर जो हो कविता पढकर मै उलझ गया हूँ। अब सत्ताईस टिप्पणियाँ आयीं हैं तो बात कुछ न कुछ जरूर होगी। बुरा मत मानना भाई। होता है, होता है।कभी कभी बात ऐसे फिसलती है कि पकड़े नही पकड़ में आती।

    उत्तर देंहटाएं
  26. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  27. मै कितनी भी कोशिश कर लूं ,मै न तो प्रेम- कविता कभी लिख पाऊंगा न गजल। ये अपनी कमजोरियाँ हैं बंधुवर, कहियेगा नहीं किसी से! अन्दर की बात है!अब पूरे तीस कमेन्ट हो गये।

    उत्तर देंहटाएं
  28. मुझे आपकी यह कविता सबसे अच्छी कविताओं में एक लगती है।

    उत्तर देंहटाएं
  29. ओ रंजन आपके इस पद्य में, सब कुछ समाया है हवा का डाकिया इस वक़्त, तेरी याद लाया है
    क्या ख़ूब बात कह गए राजीव भाई आप क्या कहना !

    उत्तर देंहटाएं
  30. गिनना मकसद नहीं भई,इकत्तीस हुई हैं अभी।एक भी न होती, तब भी यह ज़रूर कहता कि राजीव जी!जो सुलगता है , भीतर ही भीतर, सुलगने दो।
    हवा मैं भी दे रहा हूं।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  31. मुझे आ कर मिले, आदर्श ने भोजन दिया जिसको
    भजन तब है, अगर रोटी तुम्हारे पेट से बोले
    जहाँ टाटा को, अंबानी को, सुनने भीड़ लगती हो
    वहाँ ये डायरी ले कर कहाँ निकले कवि भोले
    कोई भी साथ आ जाये, नहीं ये दौर है ऐसा
    तुम्हारी चुप खरीदेगा, यहाँ बोलेगा बस पैसा

    वो कितना कुछ था करने को, न कर पाया, न हो पाया
    लपट है वक़्त की जिसपर, जवानी होम कर दी है

    बहुत अच्छी कविता है, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  32. क्षितिज दुनिया का हर कोना, जमीनों में उगा सोना
    नहीं बरगद, न ही सरहद, न ये होना, न वो रोना
    हमारे मन के हाथों में, लपट उँची, मशालें थीं
    मगर हम मेमने थे, हम पे शेरों की दुशालें थीं !

    ....वाह....! निःशब्द कर दिया आपने......आपकी लेखनी को शत शत नमन.. अतिसुन्दर अद्वितीय कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  33. उन्हीं पुराने तेवर के साथ.....
    गेय शैली में.....आपका गीत पढना
    बहुत अच्छा लगा.......


    बहुत सुंदर भाव...और भाषा...

    आभार....


    स-स्नेह
    गीता पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  34. राजीव जी,
    बहुत सुंदर रचना लगी...ओरों की तो में कह नही सकता मगर जो मुझे समझ आया वो एक प्रेमी को प्रेम के बदले तिरिस्कार मिलने पर समाज और व्यवस्था से शिकायत है.. जिसे आपने शब्दों के माध्यम से बखूभी निभाया है.

    उत्तर देंहटाएं
  35. rajiv ji ,

    maine aapko kaha hai ki kal raat 3 baje maine ise padha, dophar men copy karke rakh diya tha ...
    मैं आशा की किसी लौ को ही जलता देख तो पाता
    तुम्हीं ने तो पलक मूंदी, हरेक दीपक बुझाया है
    हवा का डाकिया इस वक़्त, तेरी याद लाया है...
    these lines are ultimate ..

    वो झूठे ख्वाब थे, कैसी नशीली थी बहुत दुनिया
    तुम्हारा साथ हो तो दो जहाँ को हमने पाया है
    हवा का डाकिया इस वक़्त, तेरी याद लाया है...

    bhai , aapki kavita men jo josh hai , wo hamen kuch sochne par mazboor kar raha hai ..

    bhai bahut jordaar kavita hai

    aapko bahut badhai ..

    vijay
    www.poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  36. कविता में प्रेम का खालीपन उभर कर आया हैं

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget