Photobucket


रचनाकार परिचय:-


सुनीता चोटिया (शानू) होम-साइंस में स्नात्त्कोत्तर श्रीमती सुनीता चोटिया ’शानू’ का जन्म पिलानी (राजस्थान)में हुआ। 

लेखन (कविता, कहानी, लेख),चित्रकला, तैराकी व दूरगामी-यात्राओं की शौकीन शानू दिल्ली में स्वयं का चाय निर्यात का व्यापार चलाती हैं।

पिछले काफी समय से वे विभिन्न कवि-गोष्ठियों में भी भाग लेती रहीं हैं और रेडियो से भी उनका काव्य-पाठ प्रसारित हुआ है। 

अपने चिट्ठे " " के माध्यम से अंतर्जाल पर भी वे सक्रिय हैं।

विचारो की श्रंखला
टूटती ही नही
एक आता है एक जाता है
दिन भर हावी रहते है
लड़ते रहते है
अपने ही वजूद से
और
विचारो का आना-जाना
नींद मे भी पीछा नही छोड़ता
रात भर स्वप्न में
पिंघलते रहते है
और नींद खुलने पर
हावी हो जाता है एक नया विचार

पूरे दिन की कशमकश में
जीतता वही है
जो ताकतवर होता है
वकीलो की तरह
झूठी सच्ची दलीलों की तरह

सरकारी वकील की तरह
आत्मा विरोध भी करती है
मगर सबूतों के अभाव में
दिन-भर की लड़ी हुई
थकी माँदी निर्बल आत्मा से
झूठी बेबुनियाद दलीले
जीत जाती है

जैसे बीमारी के कीटाणु
बीमार शरीर को ही
जल्दी शिकार बनाते हैं
और शरीर को सजा हो जाती है
मनोविकारों से पीड़ित रोगी
जो दिमाग का संतुलन खो बैठते है
खुद को पाते है...
शून्य में!!!

16 comments:

  1. जिस विषय पर कविता वैसी ही कविता...
    कई सारी बातों की एक साथ मुंह से निकलने की ख्वाहिश जैसी...
    बहुत दिनों से बात नहीं हुई आपसे... कैसी हैं दी...
    खबरी
    http://deveshkhabri.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति। शानू जी को बधाई।

    पिघल रहे हैं स्वप्न में अच्छा लगा विचार।
    भाव जगत से देह का होता नित संचार।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. विचारों के भंवर में गोते खाती आपकी कविता पसन्द आई...
    बधाई स्वीकार करें

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी कलम आजकल हडताल पर है क्या??

    कविता अच्छी लगी! सशक्त.

    इसमें एक निष्कर्ष और जोड दें तो दुगनी सशक्त हो जायगी.

    सस्नेह -- शास्त्री

    हिन्दी ही हिन्दुस्तान को एक सूत्र में पिरो सकती है
    http://www.Sarathi.info

    उत्तर देंहटाएं
  6. sunita ji ,

    bahut acchi kavita hai , vichaar bahut hi shashakt ban pade hai aur bhaavpoorn bhi hai .

    aapko badhai .


    viijay

    उत्तर देंहटाएं
  7. शशक्त और भावुक अभिव्यक्ति है...........

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी कविता वैसे तो आप हमेशा बहुत ही अच्छा लिखती है परन्तु ये कुछ जयादा ही अच्छी बन पड़ी है बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. जैसे बीमारी के कीटाणु
    बीमार शरीर को ही
    जल्दी शिकार बनाते हैं
    और शरीर को सजा हो जाती है
    मनोविकारों से पीड़ित रोगी
    जो दिमाग का संतुलन खो बैठते है
    खुद को पाते है...
    शून्य में!!!

    बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति.
    शानू जी बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत खूब सुनीता जी। मनोवैज्ञानिक विश्लेषण करती है आपकी कविता...बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर भाव भरी अभिव्यक्ति ... बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर भावाभिव्यक्ति, प्रभावी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुनीता जी,
    मन की सूक्ष्म गतिविधियों को पढ़ना अपने आप में एक कारीगरी है. आपने इसे शब्दों के माध्यम से अत्यंत सफलतापूर्वक ब्यक्त किया है. विचारों की तारतम्यता की सुन्दर अभिव्यक्ति के लिए बधाई,
    किरण सिन्धु

    उत्तर देंहटाएं
  15. आदरणीय सुनीता जी,
    एक लम्बे अरसे के बाद आपके भाव, और शब्द कविता के रूप में दिखे. बहुत अच्छी कविता कही है आपने. सारे बिम्ब बिलकुल नए और यथार्थपरक .........
    एक अच्छी, समर्थ और जीवंत कविता पढने के बाद उस पर बधाई देना महज औपचारिकता सा लगता हैं ना- !!!!!!

    सादर-
    आनंदकृष्ण, जबलपुर
    मोबाइल : 09425800818
    http://www.hindi-nikash.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget