Photobucket
संवादों के पुल पर खड़े थे हम दोनों
और नीचे खामोशी की नदी बह रही थी
न जाने कौन-सा शब्द बहुत भारी हो गया
कि जब चलने को हुए तो पुल टूट गया...


बहुत कठोर-सी वस्तु थी वह जो हमें एक-दूसरे के बीच अनुभव हो रही थी। गुस्से की आग, स्पर्श का कुनकुनापन, देह की अगन, ईर्ष्या की जलन कोई भी उस कठोर वस्तु को पिघलाने में कामयाब नहीं हो सका। यूँ ही समय आता, हमसे किनारा कर निकल जाता। हम चेहरे पर उम्र की लकीरें खींच रहे थे, किस्मत हाथों पर।

दूरियों ने अपने कदम तेज कर लिए थे, लेकिन यादें और शिकायतें बहुत धीरे-धीरे चल रही थीं। कहीं सुना था- ‘स्लो एंड स्टडी ऑल्वेज़ वींस’, तो जो धीरे चल रहा था वह जीत गया और जो तेज कदमों से चलने के बाद रास्ते में सुस्ताने बैठ गया, वह हार गया। 

रचनाकार परिचय:-

शैफाली 'नायिका' माइक्रोबायोलॉजी में स्नातक हैं। आपनें वेबदुनिया डॉट कॉम में तीन वर्षों तक उप-सम्पादक के पद पर कार्य किया है। आपने आकाशवाणी एवं दूरदर्शन के विभिन्न कार्यक्रमों में संचालन भी किया है।


दूरियाँ हार गईं, यादें जीत गईं, आँसुओं को इनाम में पाया तो शिकायतें धुँधला गईं। बहुत दिनों बाद फिर सामना हुआ, कोई वस्तु अब भी बीच में अनुभव हो रही थी, लेकिन वह कठोर नहीं थी समय की आग ने उसे थोड़ा नर्म कर दिया था। सुनाने के लिए अलग-सा कुछ नहीं था, मन की व्यथा एक जैसी और जानी पहचानी-सी थी। हम कुछ कहते इससे पहले ही मौन पिघल चुका था। अपनी-अपनी बातों को उसमें डुबोकर आँखों में सजा लिया।

मन की कड़वाहट, शिकायतें, गुस्सा जब मौन को इतना कठोर कर दें कि प्रेम का कोई स्पर्श उसे पिघला न सके, तो उसे समय के हाथ में सौंप दो। समय के हाथों में बहुत तपिश होती है, उसकी बाँहों में आकर मौन पिघल जाता है...

और फिर से शुरू होता है बातों का सिलसिला, असहमति, तकरार, शिकायतें, अपेक्षाएँ... और दूर कहीं प्रेम मुस्कुरा रहा होता है, समय का हाथ थामे...

14 comments:

  1. संवादों के पुल पर खड़े थे हम दोनों
    और नीचे खामोशी की नदी बह रही थी
    न जाने कौन-सा शब्द बहुत भारी हो गया
    कि जब चलने को हुए तो पुल टूट गया...

    संवेदनशील लेख लिखा है आपनें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. दूरियों ने अपने कदम तेज कर लिए थे, लेकिन यादें और शिकायतें बहुत धीरे-धीरे चल रही थीं। कहीं सुना था- ‘स्लो एंड स्टडी ऑल्वेज़ वींस’, तो जो धीरे चल रहा था वह जीत गया और जो तेज कदमों से चलने के बाद रास्ते में सुस्ताने बैठ गया, वह हार गया।

    संवेदना को यथोचित शब्द दिये हैं आपनें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर और प्रभावी लिखा है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ है शैफाली की रचनाओं में जो उन्‍हें अपने समकालीनों से अलग करता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. शेफाली जी आपने एक कश्मकश को शब्दों में पिरो दिया है, पढ कर अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत गहरी बात कह दी आपने अपने लेख के माध्यम से...
    जब ठहरे हुये पानी में सडांध आ सकती है तो ठहरे हुये सम्बन्धों में क्यों नहीं आयेगी... शिकवा, शिकायतें..संवाद यही तो जिन्दगी की बहाव हैं.. इनकी जरूरत है जिन्दगी और प्यार को.

    उत्तर देंहटाएं
  7. संवादों के पुल पर खड़े थे हम दोनों
    और नीचे खामोशी की नदी बह रही थी
    न जाने कौन-सा शब्द बहुत भारी हो गया
    कि जब चलने को हुए तो पुल टूट गया…

    बहुत खूब ! इतनी सुन्दर कविता पंक्तियाँ पहले कभी नहीं पढ़ीं। इन पंक्तियों ने ही इस तरह बाँध लिया कि बहुत देर तक आग बढ़कर पढ़ने को मन ही नहीं हुआ। फिर भी, बहुत मुश्किल से इन पंक्तियों के सम्मोहन से जब उबरा तो आगे पढ़ पाया। इस पोस्ट ने शायदा [ “मातील्दा” www.zubandaraz.blogspot.com] की पोस्टों की याद ताज़ा कर दी। बहुत खूब लिखा है शेफ़ाली जी ने। बधाई !

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget