रचनाकार परिचय:-


दीपक गुप्ता [का जन्म 15 मार्च 1972 को दिल्ली में हुआ। आप दिल्ली विश्वविद्यालय से कला में स्नातक हैं। आपकी प्रकाशित कृति हैं:- सीपियों में बंद मोती (कविता संग्रह) – 1995; आप की रचनायें देश के सभी प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित व टेलीविजन कार्यक्रमों में प्रसारित होती रही हैं।
मौसम के मस्तक पर मैंने
नाम तुम्हारे लिख दी पाती
और प्रतीक्षारत उत्तर में
बादल का मन झांक रहा हूं

अक्सर मुझ्सरे बतियाता है
मस्त हवाओं का हरकारा
आते जाते बतला जाता
क्या है प्रियतम हाल तुम्हारा

झंझाओं को झेल रही है
नित दीपक की जलती बाती
कितना जीवन शेष अभी है
मन ही मन मैं आंक रहा हूं

तन की तन से दूरी है पर
मन का है मन से चिर बंधन
मेरी सांसों मे सुरभित है
तेरी सांसों का ही चंदन

अब तो सावन की रितु भी
मुझको बिलकुल नहीं सुहाती
नीर लिये नयनों के नभ में
कल्पित सपने टांक रहा हूं

मौसम के मस्तक पर मैंने
नाम तुम्हारे लिख दी पाती
और प्रतीक्षारत उत्तर में
बादल का मन झांक रहा हूं

12 comments:

  1. एक अच्छी कोशिश .. हिंदी विरह गीत कम ही देखने को मिलते हैं आज कल ..
    शुरुआत बहुत सुघड़ और समर्पण से युक्त है |
    "मौसम के मस्तक पर मैंने नाम तुम्हारे लिख दी पाती
    और प्रतीक्षारत उत्तर में बादल का मन झांक रहा हूं"
    और अंत में भी वेदना की अभिव्यक्ति बड़ी ही कलात्मक और स्पर्श करने वाली है ,,
    "नीर लिये नयनों के नभ में कल्पित सपने टांक रहा हूं"|
    पता नहीं क्यूँ पर अन्तरो के भावः इन पंक्तियों से मेल नहीं खा रहे ..(मेरे ख्याल में )
    उदाहरण :
    तन की तन से दूरी है पर
    मन का है मन से चिर बंधन
    मेरी सांसों मे सुरभित है
    तेरी सांसों का ही चंदन
    यहाँ कवि आशावादी नज़र आता है और दैहिक नैकट्य पर आत्मिक नैकट्य को बेहतर मानता है .. जो की हल्का सा सूफी झुकाव का है |
    अगली ही पंक्ति
    "अब तो सावन की रितु भी मुझको बिलकुल नहीं सुहाती"
    कुछ अलग सा भाव ले कर उठती है जो मुझे असमंजस में डाल गयी .....
    दीपक भाई से उन के विचार जानना चाहूँगा इस पर..
    बहर हाल .. इस गीत के लिए बधाई ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. मौसम के मस्तक पर मैंने
    नाम तुम्हारे लिख दी पाती
    और प्रतीक्षारत उत्तर में
    बादल का मन झांक रहा हूं

    बहुत खूब दीपक जी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दीपक जी का यह गीत बहुत अच्छा लगा। बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  4. मौसम के मस्तक पर मैंने
    नाम तुम्हारे लिख दी पाती
    और प्रतीक्षारत उत्तर में
    बादल का मन झांक रहा हूं

    -बेहतरीन रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  5. झंझाओं को झेल रही है
    नित दीपक की जलती बाती
    कितना जीवन शेष अभी है
    मन ही मन मैं आंक रहा हूं


    अति सुंदर.....

    दीपक जी !
    आभार........

    उत्तर देंहटाएं
  6. मौसम के मस्तक पर मैंने
    नाम तुम्हारे लिख दी पाती
    और प्रतीक्षारत उत्तर में
    बादल का मन झांक रहा हूं
    Itna sunder geet bahut bhaav purn man ki sari baaten kah di

    Aapko padhna bahut achha laga

    उत्तर देंहटाएं
  7. अब तो सावन की रितु भी
    मुझको बिलकुल नहीं सुहाती
    नीर लिये नयनों के नभ में
    कल्पित सपने टांक रहा हूं....

    बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  8. mausam ke
    mastak par jab
    likhdee jaati paati

    patjhadi
    rut bhi aaye toh
    use utaar nahin paati

    saans ka chandan
    samooche nandan van par bhaari hai
    kyonki priye ki
    deh piya ko pranon se bhi pyari hai

    _______badhaai deepakji
    bahut bahut badhaai !

    GEET AAPKA DIL ME UTAR GAYA
    AAJ MAN AANAND SE BHAR GAYA

    उत्तर देंहटाएं
  9. मौसम के मस्तक पर मैंने
    नाम तुम्हारे लिख दी पाती
    और प्रतीक्षारत उत्तर में
    बादल का मन झांक रहा हूं....Sumadhur shabd..bade sundar bhav...!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. ATI UTTAM SHABDAVALI AND RHYMATIC METHOD.

    RAMESH SACHDEVA
    HPS SR. SEC. SCHOOL
    SHERGARH, MANDI DABWALI

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget