घूम रही हैं दिन-रात
ये नन्हीं सतरंगी मछलियाँ
काँच के छोटे से घेरे में
नकली जलीय फव्वारों और
रंग-बिरंगे सेवार घासों के बीच
बिजली की भुकभुकी में।
रचनाकार परिचय:-
सुशील कुमार का जन्म 13 सितम्बर, 1964, को पटना सिटी में हुआ, किंतु पिछले तेईस वर्षों से आपका दुमका (झारखण्ड) में निवास है।

आपनें बी०ए०, बी०एड० (पटना विश्वविद्यालय) से करने के पश्चात पहले प्राइवेट ट्यूशन, फिर बैंक की नौकरी की| 1996 में आप लोकसेवा आयोग की परीक्षा उत्तीर्ण कर राज्य शिक्षा सेवा में आ गये तथा वर्तमान में संप्रति +२ जिला स्कूल चाईबासा में प्राचार्य के पद पर कार्यरत हैं।

आपकी अनेक कविताएँ-आलेख इत्यादि कई प्रमुख पत्रिकाओं, स्तरीय वेब पत्रिकाओं में प्रकाशित हैं।

सारा शहर शांत पड़ गया है
और झपकियाँ अब
शहर की आँखों में गहरी उतर रही हैं
फिर भी मैं अपने कमरे में
कुर्सी पर टिमटिमा रहा हूँ,
रोब गाँठ रहा हूँ तो कभी
खिसिया रहा हूँ , दाँतें पिच रहा हूँ
अपने मातहतों में रह-रह कर और
फाईलों की टिप्पणियों
से जूझ रहा हूँ ।

कलम की नींब पर
कागज के मैल जम गहरे गये हैं

उधर सारी रात मछली-घर में
ये छोटी-छोटी मछलियाँ
चहलकदमी कर रही हैं
बिना बोले बिना रुके।
जरूर इन्हें लाया गया होगा
किसी बड़े जलाशय या ऐसी बड़ी जगह से
जहाँ इनका जीवन ज्यादा स्वतन्त्र और सुखी होगा
या फिर इन्हीं गरगच्च छोटी सी
शीशमहल में जन्मी होगी

कितनी विडम्बना है कि
फाईलों में सुबकते हुए अक्षर
कुछ कह नहीं पाते
उन्हें नियमों की परिधि से बाहर
किसी सादे कागज पर
उतरने की इजाजत नहीं
जहाँ कोई कविता या गीत बन सके
न इन कांच की घेराबन्दियों को तोड़
कोई मछली ही
स्वतन्त्र जलसमूह में अब विचरण कर सकती।

सोचता हूँ,
मछलियों और अक्षरों का
इस शहर के समीकरण से
अलग होने का
कोई आसार नहीं।

फिर सोचता हूँ शहर की उन
तमाम ज़िन्दगियों के बारे में
जो नींद में निढ़ाल है अभी कुछ देर के लिये
क्या यह शहर भी कोई बड़ा -सा मछलीघर ही है
जहाँ हम सब झूठी नियामतों की
चक्करघिन्नी में घूम रहे हैं लगातार
बिना सोचे बिना समझे
रोज़ की दिनचर्या का अभिन्न हिस्सा बनकर ?

12 comments:

  1. फिर सोचता हूँ शहर की उन
    तमाम ज़िन्दगियों के बारे में
    जो नींद में निढ़ाल है अभी कुछ देर के लिये
    क्या यह शहर भी कोई बड़ा -सा मछलीघर ही है
    जहाँ हम सब झूठी नियामतों की
    चक्करघिन्नी में घूम रहे हैं लगातार
    बिना सोचे बिना समझे
    रोज़ की दिनचर्या का अभिन्न हिस्सा बनकर ?

    सीधे जुड़ती है यह कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कितनी विडम्बना है कि
    फाईलों में सुबकते हुए अक्षर
    कुछ कह नहीं पाते
    उन्हें नियमों की परिधि से बाहर
    किसी सादे कागज पर
    उतरने की इजाजत नहीं
    जहाँ कोई कविता या गीत बन सके
    न इन कांच की घेराबन्दियों को तोड़
    कोई मछली ही
    स्वतन्त्र जलसमूह में अब विचरण कर सकती।

    उत्तर देंहटाएं
  3. फिर सोचता हूँ शहर की उन
    तमाम ज़िन्दगियों के बारे में
    जो नींद में निढ़ाल है अभी कुछ देर के लिये
    क्या यह शहर भी कोई बड़ा -सा मछलीघर ही है
    जहाँ हम सब झूठी नियामतों की
    चक्करघिन्नी में घूम रहे हैं लगातार
    बिना सोचे बिना समझे
    रोज़ की दिनचर्या का अभिन्न हिस्सा बनकर ?


    Behatreen vicharon ko darshati sundar kavita....hamare rahan sahan ke badalate star par prkash dalati ..bahut badhiya kavita..badhayi..

    उत्तर देंहटाएं
  4. गहन कविता। सुशील जी के लेखन के अनुरूप।

    उत्तर देंहटाएं
  5. MERE PRIY KAVI SHRI SUSHIL KUMAR
    KEE EK AUR SASHAKT KAVITA-"MACHHLEE
    GHAR".KAVITA MEIN NIHIT KAVI KEE
    GAHAN DRISHTI KE LIYE UNHEN BADHAAEE.

    उत्तर देंहटाएं
  6. कविता आत्ममंथन के लिये भी स्थान बनाती है। सुशील जी की लेखनी से निकली यह एक और सशक्त कविता है।

    क्या यह शहर भी कोई बड़ा -सा मछलीघर ही है
    जहाँ हम सब झूठी नियामतों की
    चक्करघिन्नी में घूम रहे हैं लगातार
    बिना सोचे बिना समझे
    रोज़ की दिनचर्या का अभिन्न हिस्सा बनकर ?

    उत्तर देंहटाएं
  7. सोचता हूँ,
    मछलियों और अक्षरों का
    इस शहर के समीकरण से
    अलग होने का
    कोई आसार नहीं।

    गहरी सम्वेदना को समेटे और खुद के वजूद को तलाश करती एक बेहतरीन रचना है सुशील भाई।

    प्रश्न अनूठा सामने अपनी क्या पहचान।
    छुपा हुआ संघर्ष में सारे प्रश्न-निदान।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  8. कई बार जिंदगी भी मूक प्राणियों की तरह ,
    जीने की कशमकश लिए ,
    दुरूह सी लगती है
    - सुशील कुमार जी की कवितायें
    नये बिम्ब लिए हमेशा कुछ नया सोचने
    के लिए दे जातीं हैं
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  9. सार्थक बिम्ब द्वारा जीवन की कृत्रिमता का प्रभावशाली चित्रण प्रस्तुत किया है आपने...प्रकृति के विरुद्ध रह सुखी रह पाने की चाहना सचमुच ऐसी ही है जैसे मछलीघर में रंग बिरंगी मछलियों का संतरण...

    सुन्दर सार्थक रचना हेतु आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुशील जी,
    आपने सही आकंलन किया है.. यह संसार मछलीघर ही है. एक साथ चलते चलते कौन कब कहां मुड जाये.. कौन किस को कब निगल जाये.. और न जाने कब किसी खोह या निर्जन को अपना आशयाना बनाना पड जाये.. कोई कह नहीं सकता.

    जीवन की परिधियों को आपने मछली के माध्यम से खूब ऊकेरा है

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget