डॉ. कुँअर बेचैन किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। हिन्दी साहित्य जगत उन जैसी प्रतिभा को पा कर गौरवांवित हुआ है। आज उनके जन्मदिवस पर साहित्य शिल्पी परिवार उन्हे शुभकामनायें देता है तथा उनके दीर्घ जीवन की कामना करता है। - साहित्य शिल्पी

*****

रचनाकार परिचय:-


डॉ॰ कुँअर बेचैन का मूल नाम कुँअर बहादुर सक्सेना है।

आप की प्रमुख प्रकाशित कृतियाँ हैं- गीत-संग्रह: पिन बहुत सारे, भीतर साँकलः बाहर साँकल, उर्वशी हो तुम, झुलसो मत मोरपंख, एक दीप चौमुखी, नदी पसीने की, दिन दिवंगत हुए, ग़ज़ल-संग्रह: शामियाने काँच के, महावर इंतज़ारों का, रस्सियाँ पानी की, पत्थर की बाँसुरी, दीवारों पर दस्तक, नाव बनता हुआ काग़ज़, आग पर कंदील, आँधियों में पेड़, आठ सुरों की बाँसुरी, आँगन की अलगनी, तो सुबह हो, कोई आवाज़ देता है; कविता-संग्रह: नदी तुम रुक क्यों गई, शब्दः एक लालटेन, पाँचाली (महाकाव्य)

रोज़ आँसू बहे रोज़ आहत हुए
रात घायल हुई, दिन दिवंगत हुए
हम जिन्हें हर घड़ी याद करते रहे
रिक्त मन में नई प्यास भरते रहे
रोज़ जिनके हृदय में उतरते रहे
वे सभी दिन चिता की लपट पर रखे
रोज़ जलते हुए आख़िरी ख़त हुए
दिन दिवंगत हुए !

शीश पर सूर्य को जो सँभाले रहे
नैन में ज्योति का दीप बाले रहे
और जिनके दिलों में उजाले रहे
अब वही दिन किसी रात की भूमि पर
एक गिरती हुई शाम की छत हुए !
दिन दिवंगत हुए !

जो अभी साथ थे, हाँ अभी, हाँ अभी
वे गए तो गए, फिर न लौटे कभी
है प्रतीक्षा उन्हीं की हमें आज भी
दिन कि जो प्राण के मोह में बंद थे
आज चोरी गई वो ही दौलत हुए ।
दिन दिवंगत हुए !

चाँदनी भी हमें धूप बनकर मिली
रह गई जिंन्दगी की कली अधखिली
हम जहाँ हैं वहाँ रोज़ धरती हिली
हर तरफ़ शोर था और इस शोर में
ये सदा के लिए मौन का व्रत हुए।
दिन दिवंगत हुए!

आज फिर एक बार हम आपको सुनवाने जा रहे हैं, कुँअर साहब की चर्चित गज़ल "ज़िंदगी यूं भी जली यूं भी चली मीलों तक" जिसमें उन्होंने जीवन की कुछ सच्चाइयों और कुछ मासूम भावनाओं को बड़े ही मोहक अंदाज़ में प्रस्तुत किया है.




17 comments:

  1. डो. बेचैन को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें। कविता का आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. डॉ कुँअर बेचैन को जन्मदिन की शुभकामनायें... बहुत अच्छी कविता..बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें। कुँअर बेचैन जी को सुनना और पढना दोनों ही अच्छा लगता है। आज प्रस्तुत दोनों रचनायें मेरे पसंद की हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. पंकज सक्सेना1 जुलाई 2009 को 4:31 pm

    चाँदनी भी हमें धूप बनकर मिली
    रह गई जिंन्दगी की कली अधखिली
    हम जहाँ हैं वहाँ रोज़ धरती हिली
    हर तरफ़ शोर था और इस शोर में
    ये सदा के लिए मौन का व्रत हुए।
    दिन दिवंगत हुए!

    शुभकामना कुवर जी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. शुभकामनायें जन्‍मदिन की

    कविता पढ़वाई सच्‍चे मन की।

    उत्तर देंहटाएं
  6. डॉ कुँअर बेचैन jee को जन्मदिन की शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  7. डॉ कुँअर बेचैन जी को जन्मदिन की बधाई एवं शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  8. मेरी हार्दिक शुभकामनाएं
    कुंवर बेचैन जी मेरे पसंदीदा कवियों में से हैं -सवेदनशीलता और अभिव्यक्ति की जो सहजता कुंवर जी में दिखती , विरली है !
    इनकी एक हिन्दी गजल /या गीत जो भी कहिये -दिल पे मुश्किल है बहुत दिल की कहानी लिखना मैं गुनगुनता रहता हूँ !
    कितना ऋणी हूँ मैं इस महान कवि का !

    उत्तर देंहटाएं
  9. jam deen ki hardeek badhayi kuvar ji ki kavitayo me bhavo ke saath sath sabdo ko itne saral tarike se rakha jata hai ki deel ko chhu jaati hai mera prnaam swikaar kare
    saadar
    praveen pathik
    9971969084

    उत्तर देंहटाएं
  10. डा.साहब को जन्म दिवस पर विनम्रता से शुभकामनाएँ -
    Many Happy returns of the Day .......& Many more
    सुँदर कविता सुनवाने का साहित्य शिल्पी मँच को आभार
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  11. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  12. और यशस्वी हों! सुखी रहें।
    'दिन दिवंगत हुए' — जीवन-यथार्थ की कविता।
    मर्मस्पर्शी।
    बधाई!
    *महेंद्रभटनागर
    फ़ोन : ०७५१-४०९२९०८

    उत्तर देंहटाएं
  13. डा. कुंवर बेचैन जी को जन्मदिन की हार्दिक बधाई व शुभकामान्यें.

    उत्तर देंहटाएं
  14. Hardik shubhkamnaye....

    Aanad laabh ka suawsar pradaan karne ke liye sahity shilpi ka aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
  15. डा,कुँअर बेचैन जी को उनके जन्म-दिन पर ढेरों बधाई। आपकी कविता में लय और छंद का जादू सर चढ़ कर बोलता है और मन को अभिभूत करता है।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget