दीदी जब सावन में,
काली मिट्टी पर उग आए,
हरे पौधों को देखता हूँ,
तो मेरी साँवली कलाई पर,
हरे रंग का रेशम,
खुद ब खुद,
उग आता है,
मैं अपने माथे पर,
सुर्ख रोली ढूँढता हूँ,
और,
जब सहर आसमाँ के माथे पर,
वही लाल रोली मलती है,
तो हल्का-सा टीका मुझे भी,
लगा जाती है!!

बरसात जब बूँदों का अक्षत,
मेरे सर पर छिड़कती है,
तो मैं होश में आता हूँ,
और,
सूनी कलाई, सूनी दुनिया,
सूना माथा पाता हूँ!!

दीदी, कभी भोर, कभी मिट्टी,
कभी बारिश बन कर आओ,
शायद मैं अकेला हूँ,
मुझे साथ ले जाओ...
*****

12 comments:

  1. दिव्यांशु बहुत अच्छी कविता है।मन को छू गयी संवेदनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. दीदी, कभी भोर, कभी मिट्टी,
    कभी बारिश बन कर आओ,
    शायद मैं अकेला हूँ,
    मुझे साथ ले जाओ...

    सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दीदी, कभी भोर, कभी मिट्टी,
    कभी बारिश बन कर आओ,
    शायद मैं अकेला हूँ,
    मुझे साथ ले जाओ..



    .सावन में एक ऐसी भी बरखा होती है......

    नयन भीग गए......दिव्यांशु जी.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. kya hi sunder bhav upmaye sab kuchh mujhe bahut achchhi lagi aap ki kavita
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  5. बरसात जब बूँदों का अक्षत,
    मेरे सर पर छिड़कती है,
    तो मैं होश में आता हूँ,
    और,
    सूनी कलाई, सूनी दुनिया,
    सूना माथा पाता हूँ!!

    दीदी, कभी भोर, कभी मिट्टी,
    कभी बारिश बन कर आओ,
    शायद मैं अकेला हूँ,
    मुझे साथ ले जाओ.

    एक एक पंक्ति दिल को छू जाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. मर्मस्पर्शी संवेदनायें लिये कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर रचना है मन को छू गई. यूँ कहो भैया की याद आ गई
    सादर
    अमिता

    उत्तर देंहटाएं
  8. मंगलवार 20/08/2013 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं ....
    आपके सुझावों का स्वागत है ....
    धन्यवाद !!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget