Photobucket

रचनाकार परिचय:-


11 मार्च 1959 को (बीकानेर, राजस्‍थान) में जन्मे मुकेश पोपली ने एम.कॉम., एम.ए. (हिंदी) और पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्‍नातकोत्‍तर किया है और वर्तमान में भारतीय स्‍टेट बैंक, दिल्‍ली में राजभाषा अधिकारी के पद पर कार्यरत है|

अनेक पुरुस्कारों से सम्मानित मुकेश जी की रचनायें कई प्रसिद्ध पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रही हैं| आपका एक कहानी संग्रह "कहीं ज़रा सा..." भी प्रकाशित है। आकाशवाणी, बीकानेर से भी आपकी कई रचनाओं का प्राय: प्रसारण होता रहा है।

आप अंतर्जाल पर भी सक्रिय हैं और अपना एक ब्लाग "स्वरांगन" चलाते हैं।

धूँ-धूँ जलता शहर देख
रो रहा है आज आसमान
भट्टी की तरह
सुलग रही जमीन है
काला पड़ गया आज आसमान
यही आसमान
पहले कभी बरसात लाया था
हर आँगन
हर गली को
बरखा की
मीठी खुशबू से महकाया था
नहीं थी ग़म की परछाईं
चारों तरफ खुशियों का ही साया था
पर हमने दिया
आसमान को घिनौना, विकृत कालापन
हँसते-खेलते परिवारों को
उजाड़ कर
खेतों-खलिहानों में
पत्थर लगाकर
पेड़ों को काट कर
अब हम फिर बेचैन हैं
वर्षा के लिए
और आसमान की तरफ
आँख लगाये बैठे हैं
मगर इस बार वो सँभल गया है
पृथ्वी पर हो रहे
तांडव-नृत्यों को पहचान गया है
नहीं दूँगा
पानी की एक बूँद भी
इस बात पर वो अडिग है
और न जाने
बादलों को कहां ले गया है ।

11 comments:

  1. manav ke dushkarmon par
    ambar
    aansoo bahata hai

    he maanav !
    tu kudarat ko itna kyon satata hai ?

    yahi prashn aaj man me uthta hai aapki
    is umda kavita ko baanch kar......

    uttam kaavya k liye badhaai !

    उत्तर देंहटाएं
  2. मगर इस बार वो सँभल गया है
    पृथ्वी पर हो रहे
    तांडव-नृत्यों को पहचान गया है
    नहीं दूँगा
    पानी की एक बूँद भी
    इस बात पर वो अडिग है
    और न जाने
    बादलों को कहां ले गया है ।
    _________________________
    Sapat shabdon men kahi sidhi bat..Kavi ke bhav pathak se ekakar ho rahe hain.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुकेश जी की रचना 'आज का आसमान' एक सुन्दर कविता है.

    पर हमने दिया
    आसमान को घिनौना, विकृत कालापन
    हँसते-खेलते परिवारों को
    उजाड़ कर
    खेतों-खलिहानों में
    पत्थर लगाकर
    पेड़ों को काट कर
    अब हम फिर बेचैन हैं
    वर्षा के लिए

    बहुत सजीव चित्रण है. बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  4. मगर इस बार वो सँभल गया है
    पृथ्वी पर हो रहे
    तांडव-नृत्यों को पहचान गया है
    नहीं दूँगा
    पानी की एक बूँद भी
    इस बात पर वो अडिग है
    और न जाने
    बादलों को कहां ले गया है ।

    प्रभावी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मगर इस बार वो सँभल गया है
    पृथ्वी पर हो रहे
    तांडव-नृत्यों को पहचान गया है
    नहीं दूँगा
    पानी की एक बूँद भी
    इस बात पर वो अडिग है
    और न जाने
    बादलों को कहां ले गया है ।

    Sajeev chitran

    उत्तर देंहटाएं
  6. मुकेश जी ! बधाई
    पर असली बधाई तब जब बादलों
    को ढूढ पायें क्योंकि खोने का पता आपको
    ही लगा है, हमें तो इस बात से सदमा लगा है

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच कहा आपने...जैसा बोया है हमने...वैसा तो काटना ही पड़ेगा

    बढिया रचना

    उत्तर देंहटाएं
  8. मगर इस बार वो सँभल गया है
    पृथ्वी पर हो रहे
    तांडव-नृत्यों को पहचान गया है
    नहीं दूँगा
    पानी की एक बूँद भी
    इस बात पर वो अडिग है
    बहुत ही सुन्दर और सटीक अभिव्यक्ति है आभार्

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर कविता बहुत ही सटीक अभिव्यक्ति ... lajawaab

    उत्तर देंहटाएं
  10. साहित्‍य प्रेमी अक्‍सर प्रकृति से प्रेम करने वाले भी होते हैं, राजस्‍थान का निवासी होने के कारण मैं गर्मी से नहीं डरता था, लेकिन इस वर्ष दिल्‍ली की भयंकर गर्मी ने मुझे झकझोर कर रख दिया । अभी तक मैं दिल्‍लीवासियों को बताता था कि राजस्‍थान में इससे भी भयंकर गर्मी पड़ती है, मगर इस बार गर्मी मैं स्‍वयं भी सहन नहीं कर पाया । बहुत पहले लिखी गई यह कविता आप सबको यह कविता पसंद आई, यह जानकर मुझे प्रसन्‍नता हुई । मेरा मनोबल बढ़ाने के लिए आप सब का हार्दिक आभार ।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget