कविता के वरिष्ठ हस्ताक्षर और पूर्व संवदेशनशील प्रशासक श्री सुदीप बेनर्जी का दिल्ली में 10/02/2009 को निधन हो गया। उनका जन्म 16 अक्टूबर 1945 को मध्यप्रदेश के इंदौर में हुआ था। वे मध्यप्रदेश कैडर के भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी थे। वे राष्ट्रीय साक्षरता मिशन दिल्ली सहित शिक्षा मंत्रालय के कई पदों में कार्यरत रहे। उन्होंने साक्षरता अभियान को संस्कृतिकर्मियों का आंदोलन बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी थी। वे बड़े संवेदनशील कवि और अपने मातहतों को गंभीरता से सुनने वाले प्रशासक थे ।

उनकी कुछ प्रमुख कृतियाँ हैं शब गश्त(1980), जख्मों के कई नाम (1992), इतने गुमान(1997) आदि। उनकी कमी हमें सालती रहेगी। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें।

17 comments:

  1. पंकज सक्सेना11 फ़रवरी 2009 को 7:17 pm

    श्रद्धांजलि।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ईश्वर दिवंगत आत्मा को शान्ति प्रदान करें. मेरी श्रद्धांजलि

    उत्तर देंहटाएं
  3. दिवंगत आत्मा को ईश्वर शान्ति प्रदान करें |


    श्रद्धांजलि।

    उत्तर देंहटाएं
  4. यह दुखद समाचार आपसे ही मिला. मुख्यधारा के मीडिया से तो यह उम्मीद भी नहीं की जा सकती कि वह किसी साहित्यकार के न रहने को इतनी अहमियत दे. सुदीप की कुछ कविताएं मुझे बहुत अच्छी लगी थीं. उनका न रहना अवसाद ग्रस्त कर रहा है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुदीप बेनर्जी को विनम्र श्रद्धांजलि।

    उत्तर देंहटाएं
  6. भगवान् उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे. सुदीप जी एक बहुत ही अच्छे साहित्यकार थे, उनकी रचनाएं उनको सदैव हमारे बीच ही रखेंगी...

    उत्तर देंहटाएं
  7. परम पिता सुदीप बेनर्जी जी की दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करे ...मेरी श्रधांजलि

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुदीप हमारे वक्‍त के महत्‍वपूर्ण कवि थे और उनका काम अरसे तक हमारे दिलो दिमाग में रहेगा। मेरी ओर से तथा कथा यूके परिवार की ओर से विनम्र श्रद्धांजलि

    सूरज प्रकाश
    भारतीय प्रतिनिधि कथा यूके

    उत्तर देंहटाएं
  9. shri Sudeep Banerjee sirf kavi hi nahin balki kai sansthanon mein high posts per bhee karyarat they. ye hamara saubhagya raha ki meiN jaNha kaam kartee hooN oos sansthan ke Board Of Governors ke chairman they. oonheiN sunane ka avasar mila.Literacy abhiyan mein oonki matvapoorna bhoomika rahee.
    Bhagwan oonki divangat aatma ko shanti aur parivar ko yeh dukh sahane ki shakti de.

    उत्तर देंहटाएं
  10. इश्वर दिवंगत आत्मा को शांति व परिवार को दु:ख सहन करने की शक्ति प्रदान करे। सुदीप जी का न रहना साहित्य को बडी क्षति है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. श्रद्धा स्‍मृति पुष्‍प समर्पित हैं

    उत्तर देंहटाएं
  12. विनम्र श्रद्धांजली.. ईश्वर दिवंगत की आत्मा को शान्ति दें और उनके परिवार को यह अपूर्णिय क्षति सहने की हिम्मत दें.

    उत्तर देंहटाएं
  13. bahut dukh hua
    sunkar bhawan unki aatam ko shanti de
    aur parivaar ko dukh sahne ki shakti

    sahitya ka ek sitara aur doob gaya

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget