दिव्या माथुर के लेखन में प्रवासी जीवन के जीवंत चित्र [साहित्य समाचार] - पवन वर्मा

भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद के महानिदेशक एवं प्रसिद्ध लेखक पवन वर्मा ने ब्रिटेन की प्रसिद्ध कहानीकार दिव्या माथुर की पुस्तक पंगा तथा अन्य कहानियाँका लोकापर्ण करते हुए कहा कि दिव्या माथुर की कहानियों की विशेषता यहाँ है कि वि इनमें भागीदार भी है और दृष्टा भी। इन कहानियों में प्रवासी जीवन के जीवंत चित्र हैं। लोकापर्ण समारोह का आयोजन अक्षरम द्वारा साहित्य अकादमी सभागार मे 23 फरवरी 2009 को किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ साहित्यकार डॉ गंगा प्रसाद विमल ने की। समकालीन साहित्य के संपादक ब्रिजेन्द्र त्रिपाठी, असगर वज़ाहत और अनिल जोशी ने वक्ता के रूप में पुस्तक के संबंध मे अपने विचार रखे। डॉ हरजेन्द्र चौधरी ने पुस्तक पर आलेख पढा और अलका सिन्हा ने कहानी पाठ किया। कार्यक्रम का संचालन चैतन्य प्रकाश ने किया।

इस अवसर पर बोलते हुर असगर वज़ाहत ने कहा कि दिव्या माथुर की कहानियाँ काल, पात्र और स्थितियों से उपर उठती हैं, वे एक विचार को केन्द्र मे रखती हैं। डॉ गंगा प्रसाद विमल ने कहा कि उनके लेखन में भारतीय दृष्टी है। उन्होने इस संबंध मे दिव्या माथुर की कहानीअंतिम तीन दिनका हवाला दिया। विमल जी ने प्रवासी साहित्य को मुख्य धारा में जोड़ने की कोशिशों की प्रशंसा की। ब्रिजेन्द्र त्रिपाठी ने मुख्य धारा के साहित्य मे प्रवासी साहित्य को जोडने के प्रयासों के महत्व को रेखांकित किया। उन्होंने कहा कि अब सभी प्रमुख पत्रिकाएं प्रवासी साहित्य विशेषांक निकाल रही हैं। उन्होंने इस दृष्टि से अक्षरम के आयोजनों और प्रकाशनों के योगदान की भी सराहना की। अनिल जोशी ने कहा कि दिव्या माथुर की कहानियां प्रवासी जीवन का प्राअमाणिक दस्तावेज हैं, उनमें भरपूर रेंज है, वे ब्रिटेन के भारतीयों के संघर्ष की कहानी हैं। डॉ हरजेन्द्र चौधरी ने अपने विद्वतापूर्ण आलेख मे दिव्या माथुर की पुस्तक की विशद समीक्षा की और उनकी कहानियों से उद्धरण देते हुए उनकी कहानियों के अथ्य, शिल्प और भाषा की विशेषताओं को रेखांकित किया। उन्होंने इस संग्रह को प्रवासी साहित्य की महतोपूर्ण कृति बताया। अलका सिन्हा के कहानी पाठ ने तो वातावरण को जीवंत ही कर दिया। इस अवसर पर पुस्तक के प्रकाशक मेधा पाकेट बुक्स के अजय मोंगा भी उपस्थित थे।

Tags: , ,

6 Responses to “दिव्या माथुर के लेखन में प्रवासी जीवन के जीवंत चित्र [साहित्य समाचार] - पवन वर्मा”

बेनामी ने कहा…
25 फ़रवरी 2009 को 6:44 pm

Congtats. Divya jee.


आशीष कुमार 'अंशु' ने कहा…
25 फ़रवरी 2009 को 6:53 pm

'अक्षरम' दिल्ली में सांस्कृतिक कार्यक्रमों की एक बहूत बड़ी धुरी है. इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम की रिपोर्टिंग के लिए आपका आभार .


अनन्या ने कहा…
26 फ़रवरी 2009 को 11:30 am

बधाई।


मोहिन्दर कुमार ने कहा…
26 फ़रवरी 2009 को 11:44 am

इस महत्वपूर्ण लेख के लिये पवन जी का आभार


निधि अग्रवाल ने कहा…
26 फ़रवरी 2009 को 11:50 am

समाचार से अवगत कराने के लिये धन्यवाद


अनिल कुमार ने कहा…
26 फ़रवरी 2009 को 4:13 pm

समाचार से अवगत कराने के लिये धन्यवाद।


एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~~~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...
Blogger द्वारा संचालित!
Designed by SpicyTricks and Modified for SahityaShilpi.com by Ajay Yadav