कोपनहेगन वार्ता को विफल ही कहा जायेगा। पर्यावरण को ले कर एक तथ्य सर्वाधिक महत्व का है कि - THINK GLOBALLY BUT ACT LOCALLY. पर्यावरण हमारी सामूहिक जिम्मेदारी है। इसी विषय को ले कर "चैनल वन" पर निरंतर प्रसारित हो रहे कार्यक्रमों की श्रंख़ला में साहित्य शिल्पी के कवि/साहित्यकारों नें अपनी रचनाओं के माध्यम से अपनी चिंताओं को अभिव्यक्ति दी। कार्यक्रम के प्रस्तोता हैं - देवेश वशिष्ठ "खबरी"।

गंगा पर "श्रीकांत मिश्र कांत"




पर्यावरण पर "योगेन्द्र मौदगिल "

5 comments:

  1. पर्यावरण पर चिंता साहित्यकारों का भी काम है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मिश्र जी और मौदगिल की के कविता के माध्यम से इस विषय पर विचार सुनना सुखद रहा!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. पर्यावरण पर दोनो कवियों की चिंता को सुन कर अच्छा लगा। बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर और विचरोत्तेजक प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  5. श्रीकांत मिश्र कांत जी ने गंगा पर ऐतिहासिक चर्चा कर कविता सुनाई,

    बहुत सुन्दर गीत.. आओ अब जिए प्रकृति के वास्ते...

    मौदगिल जी ने मंत्रमुग्ध कर दिया.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Get widget